होम » जानकारी » स्वर्ग किसे कहते हैं? Swarg Kise Kahate Hain

स्वर्ग किसे कहते हैं? Swarg Kise Kahate Hain

स्वर्ग के बारे में अक्सर आप अपने बड़ों या किताबों  से सुना होगा और बहुत सारी फिल्मों में भी स्वर्ग को दिखाया जाता है तो आइए दोस्तों In Hindi में जानते हैं Swarg Kise Kahate और Kitne Hote Hain या स्वर्ग Swarg Ki Paribhasha क्या है?

स्वर्ग किसे कहते हैं?

इस संसार में मुख्य रूप से तीन लोगों का वर्णन किया गया है स्वर्ग लोक, मृत्यु लोक अथवा पृथ्वीलोक तथा पाताल लोक।

हमारे हिसाब से स्वर्ग लोक वह लोक होता है जहां पर देवता निवास करते हैं जहां पर विभिन्न प्रकार के सुख समृद्धि अमृत तथा मृत्यु का नामोनिशान नहीं होता है, वहां पर हम देवताओं के साथ विचरण करते हैं तथा धार्मिक कार्य करते हुए अपना जीवन व्यतीत करते हैं किंतु यह हमारी मान्यताएं हैं।

swarg kise kahate hain

लेकिन हम अपने वास्तविक जीवन में अगर देखें तो एक खुशहाल परिवार भी स्वर्ग का रूप हो सकता है।

आइए हम अलग-अलग विद्वानों के विचारों को जानते हैं कि उनके नजर में Swarg Ki Paribhasha है।

विद्वानों के नजर से Swarg Kise Kahate Hain

श्रीमद भगवत गीता के 9/20 श्लोक में कहां गया है तीनों वेदों के ज्ञाता सोमरस पीने वाले पाप रहित पुरुष यज्ञों द्वारा मुझे पुष्कर स्वर्ग लोक को पाने की कामना करते हैं वह अपने पुण्य फल से स्वर्ग लोक पाकर बहुत देवताओं के दिव्य सुख को भोगते हैं।

यह भी जरूर पढ़े : एकादशी व्रत कथा

बाइबल के अनुसार जब एक पापी मसीहा के पास आता है तो स्वर्ग दूत स्वर्ग में आनंदित होते हैं।

विदुर नीति के अनुसार जो व्यक्ति जीवन भर आदर्शों और नीति की राह पर चलता है वह व्यक्ति मृत्यु के बाद स्वर्ग लोक को जाता है ऐसा व्यक्ति परम ज्ञानी होता है।

डॉन पाइपर के अनुसार स्वर्ग एक वास्तविक स्थान है जितना अधिक हम इसके बारे में जानते हैं उतना ही हमें इसकी आशा करनी चाहिए जैसा कि मैंने अक्सर सुझाव दिया है स्वर्ग तैयार लोगों के लिए एक तैयार जगह है।

प्रशांत त्रिपाठी के अनुसार स्वर्ग और नरक कहीं बाहर या भविष्य में नहीं है मन का गन्दा होना ही नर्क है मन का निर्मल रहना ही स्वर्ग है।

फिलिप्स ब्रुक्स के अनुसार स्वर्ग व आत्मा है जो ईश्वर में अपना पूर्ण व्यक्तित्व खोजती है।

ओशो के अनुसार एक में होना ही स्वर्ग में होना है 2 में हो जाना ही नर्क में हो जाना है संसार और परमात्मा को दो तरह से मत सोचो सरसठ और सृष्टि को दो में मत बांटो सरसठ और सृष्टि एक ही घटना के 2 नाम हैं परमात्मा ने संसार बनाया ऐसा मत कहो परमात्मा संसार बना ऐसा कहो।

Swarg Kitne प्रकार Hote Hain

स्वर्ग को हम लोग दो भागों में बांट सकते हैं जैसा कि हम महसूस करते हैं। 

swarg kitne hote hain
  1. दिव्य स्वर्ग
  2. मनुष्य द्वारा धरती पर निर्मित स्वर्ग

दिव्य स्वर्ग Swarg Kise Kahate Hain

धर्मों एवं शास्त्रों के अनुसार जब मनुष्य की मृत्यु होती है तो उसे नर्क या स्वर्ग नसीब होता है जो उसके कर्मों के ऊपर निर्भर होते हैं मृत्यु के बाद जिस स्वर्ग की प्राप्ति होती है उसे ही दिव्य स्वर्ग कहते हैं।

मनुष्य द्वारा धरती पर निर्मित Swarg Kise Kahate Hain

मनुष्य द्वारा धरती पर निर्मित स्वर्ग या कोई स्वर्ग नहीं यह एक स्थान होता है जो मनुष्यों द्वारा विभिन्न  प्रकार से सजाया जाता है उसे ही हम मनुष्य द्वारा पृथ्वी पर निर्मित स्वर्ग कहते हैं।

निष्कर्ष

स्वर्ग तीनों लोग की सबसे अच्छी जगह है Swarg में आपको भगवान की प्राप्ति होती है इसलिए आप अपने अच्छे कर्मों से स्वर्ग को प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है