होम » जानकारी » ई बैंकिंग क्या होता है

ई बैंकिंग क्या होता है

दोस्तों आज हम जानेंगे कि ई बैंकिंग क्या है और ई बैंकिंग के द्वारा हम कौन-कौन सी सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं तथा इसके क्या फायदे हैं। तेजी से बढ़ रही टेक्नोलॉजी के कारण अब बैंकिंग के क्षेत्र में भी कई सारे बदलाव देखने को मिलते हैं जिससे हमारा बैंक संबंधित काम आसानी से हो जाता है।

ई बैंकिंग भारत में काफी लोकप्रिय हो चुकी है क्योंकि ईबैंकिंग के द्वारा ग्राहकों की संख्या बढ़ाई जा सकती है बल्कि इससे पैसे के लेनदेन में भी काफी हद तक आसानी होती है। कई बार हम ई बैंकिंग का मतलब क्या है इसे समझ नहीं पाते हैं इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम इसे बारीकी से समझेंगे।

ई बैंकिंग क्या है

e banking kya hai

ई-बैंकिंग एक शब्द है जिसका उपयोग बैंक संबंधित उस प्रक्रिया को इंगित करने के लिए किया जाता है जिसके माध्यम से ग्राहक को इलेक्ट्रॉनिक और दूरसंचार नेटवर्क का उपयोग करके बैंकिंग की सभी सुविधाओं का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जाती है।

यह बैंकों द्वारा पेश किया जाने वाला एक प्रकार का सुविधा है जो ऑनलाइन बैंकिंग की सुविधा देता है। ई बैंकिंग के मदद से ग्राहक केवल एक क्लिक में बैंक खाते तक पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े: SBI, PNB, UCO, BOB इत्यादि किसी भी बैंक से पैसे कैसे निकाले जाते हैं?

ई-बैंकिंग में व्यक्तिगत कंप्यूटर, स्मार्टफोन, लैपटॉप का उपयोग करके पैसे को भेजा जा सकता है तथा अकाउंट स्टेटमेंट की जांच, उपयोगिता बिल भुगतान, बैंक खाता खोलना, निकटतम एटीएम का पता लगाना, वित्तीय उत्पादों और सेवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करना, लोन के लिए आवेदन करना आदि कई प्रकार की सुविधाएं दी जाती है।

ई बैंकिंग की सेवाएं क्या है

सरल शब्दों में कहे तो ई-बैंकिंग एक बैंकिंग व्यवस्था को संदर्भित करता है, जिसकी सहायता से ग्राहक इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार का लेनदेन कर सकता है साथ ही यह एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड होता है, अर्थात यह पूरी तरह से सुरक्षित है।

ई-बैंकिंग पेपरलेस और कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देता है जिससे अर्थव्यवस्था और मजबूत होती है। यह कई अधिकारों एवं जिम्मेदारियों और शुल्क के साथ आता है जो सुविधा को और विस्तृत बनाता है।

ई-बैंकिंग के अंतर्गत आने वाली सेवाओं की श्रेणी इस प्रकार है:

इंटरनेट बैंकिंग : इंटरनेट बैंकिंग ग्राहकों को प्रदान की जाने वाली एक बैंकिंग सुविधा जिसके माध्यम से ग्राहक बैंक की वेबसाइट या एप्लिकेशन के माध्यम से इंटरनेट का उपयोग करके पैसे लेनदेन करने में सक्षम हो पाते हैं।

मोबाइल बैंकिंग : लगभग सभी बैंकों ने अपने अनुसार मोबाइल एप्लिकेशन डिजाइन किए हैं जिसके साथ आप अपनी पैसों का लेनदेन मोबाइल पर कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए आपको कुछ निम्नलिखित चीजों की जरूरत होगी जैसे एक स्मार्टफोन, इंटरनेट, मोबाइल एप्लिकेशन और आपके बैंक खाते में मोबाइल बैंकिंग सेवा।

एटीएम (ATM) : स्वचालित टेलर मशीन, जिसे एटीएम भी कहां जाता है जो ई-बैंकिंग के तहत प्रदान की जाने वाली सबसे आम और प्रारंभिक सेवा में से एक है। एटीएम आपको अपने खाते की स्थिति की जांच करने, पैसे ट्रांसफर करने, पैसे जमा करने, मोबाइल नंबर बदलने, डेबिट कार्ड पिन बदलने इत्यादि सभी बैंकिंग की सुविधा देता है।

डेबिट कार्ड : डेबिट कार्ड का उपयोग हमारे दैनिक जीवन में पैसे से संबंधित सभी लेनदेन की सभी समस्या को पूरा करने के लिए किया होता है। डेबिट कार्ड ग्राहक के बैंक खाते से जुड़े होते हैं जिस कारण ग्राहक को पीओएस आउटलेट, ऑनलाइन शॉपिंग पर भुगतान करने के लिए केवल कार्ड स्वाइप करना होता है। 

क्रेडिट कार्ड : डेबिट कार्ड की तरह ही क्रेडिट कार्ड भी एक भुगतान कार्ड है जिसे बैंक ग्राहकों के अनुरोध पर उनके क्रेडिट स्कोर के आधार पर जारी किया जाता है। यह कार्डधारक को सुनिश्चित पैसे की सीमा तक धन उधार लेने और भुगतान करने में सक्षम बनाता है। 

क्रेडिट लिमिट बैंकों द्वारा दी जाती है जो कार्ड जारी करते हैं। कार्डधारक क्रेडिट कार्ड के उपयोग के लिए कुछ शुल्कों के साथ निर्धारित समय के भीतर लिए गए धनराशि को चुकाने का वादा करता है।

पॉइंट ऑफ़ सेल (POS) : पॉइंट ऑफ़ सेल सिस्टम एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिससे ऑफलाइन ग्राहकों द्वारा खरीदारी हेतु भुगतान करने के लिए किया जाता है। जहां ग्राहक खरीदारी या प्राप्त सेवाओं के लिए डेबिट या क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक डेटा इंटरचेंज (IDI) : ईडीआई एक मानकीकृत प्रारूप का उपयोग करके इलेक्ट्रॉनिक रूप से बैंकिंग व्यवसायों के बीच सूचनाओं को प्रसारित करने का एक तरीका है जिसे पहले बैंक में कागजी प्रक्रिया द्वारा किया जाता था।

यह भी पढ़े: बंद अर्थव्यवस्था किसे कहते हैं और बंद अर्थव्यवस्था से क्या आशय है

इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफ (EFT) : जब एक बैंक से दूसरे बैंक में इलेक्ट्रॉनिक रूप से पैसा को ट्रांसफर किया जाता है, तो इसे इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर कहते हैं। ETF मैं डायरेक्ट डेबिट, डायरेक्ट डिपॉजिट, वायर ट्रांसफर, एनईएफटी , आरटीजीएस, आईएमपीएस आदि शामिल होते हैं।

ई-बैंकिंग का लाभ क्या है

संक्षेप में इलेक्ट्रॉनिक मोड के माध्यम से किया गया किसी भी प्रकार का बैंकिंग प्रक्रिया ई-बैंकिंग के अंतर्गत आता है।

ई बैंकिंग एक सुरक्षित, तेज और सुविधाजनक इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग सुविधा है जो अपने ग्राहकों को इंटरनेट का उपयोग करके कभी भी किसी समय पर बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल करने की सुविधा देती है।

  • यह डिजिटल भुगतान को सक्षम बनाता है जिससे पैसे के लेनदेन में पारदर्शिता बढ़ती है।
  • यह चौबीसों घंटे बैंक खाते तक पहुंच की अनुमति देता है।
  • यह बैंकिंग लेनदेन और नियमों में बदलाव के होने के लिए अलर्ट भी भेजता है।
  • यह बैंकों के लिए लेनदेन लागत को बहुत हद तक कम करता है।
  • यह ग्राहकों के लिए सुविधाजनक और आसान है
  • ग्राहकों को हर बार बैंक शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं है।

यह भी पढ़े: SBI, ICICI तथा अन्य किसी भी गवर्नमेंट और प्राइवेट बैंक में जॉब कैसे पाए

प्रश्न और उत्तर

ई बैंकिंग कहते हैं?

इलेक्ट्रॉनिक मोड द्वारा प्रत्यक्ष रूप से किया गया कोई भी बैंकिंग कार्य को ई बैंकिंग कहते हैं। ई बैंकिंग करने के लिए आपको क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की जरूरत होती है या फिर आप मोबाइल बैंकिंग के जरिए भी ई बैंकिंग कर सकते हैं।

ई बैंकिंग का उपयोग क्या है?

ई बैंकिंग का उपयोग करके आप पैसे को निकाल सकते हैं, पैसे तो बैंक में जमा कर सकते हैं और अपने बैंक खाते में पैसे का अवलोकन भी कर सकते हैं। 

ई बैंकिंग जरूरी है?

तेजी से विकसित हो रही दुनिया मैं ई बैंकिंग में काफी योगदान दिया है क्योंकि ई बैंकिंग के जरिए लोग न केवल अपने बैंकिंग संबंधित कार्यों को बिना बैंक जाए कर लेते हैं बल्कि ई बैंकिंग के जरिए भ्रष्टाचार में भी कमी आती है इसलिए हमें जितना हो सके ई बैंकिंग को समर्थन करना चाहिए।

ई बैंकिंग की शुरुआत कब हुई?

ई बैंकिंग की नीव को 1970 में ही रख दिया गया था लेकिन वह इतनी सफल नहीं रही लेकिन बाद में आकर 2010 से लोगों ने ई बैंकिंग का काफी समर्थन किया और आज ई बैंकिंग से लगभग बैंक के सभी कार्य हो जाते हैं।

यह भी पढ़े: DCARDFEE क्या है और इसका फुल फॉर्म क्या होता है?

निष्कर्ष

ई बैंकिंग मैं अक्षर ई इलेक्ट्रॉनिक को दर्शाता है इसका मतलब है इलेक्ट्रॉनिक से संबंधित बैंकिंग को ही ई बैंकिंग कहेंगे और यह हमारे लिए काफी उपयोगी और सुविधाजनक होती है।

हम आशा करते हैं आपको ई बैंकिंग क्या है और ई बैंकिंग की सेवाएं क्या होती है तथा ई बैंकिंग का लाभ क्या है से संबंधित एवं महत्वपूर्ण जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग से संबंधित यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों को नीचे दिए गए फेसबुक और व्हाट्सएप के बटन को दबाकर अभी शेयर करें।

ई बैंकिंग क्या है से जुड़े हुए कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको जरूर देंगे।

इसी प्रकार की रोचक जानकारियों को रोजाना अपने मोबाइल फोन पर प्राप्त करने के लिए आप हमारे वेबसाइट के नोटिफिकेशन को सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे कि हर जानकारी का नोटिफिकेशन आपको मिल जाएगा।

1 thought on “ई बैंकिंग क्या होता है”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है