होम » शिक्षा » फ्लाई शटल क्या है? फ्लाइंग शटल के अविष्कार

फ्लाई शटल क्या है? फ्लाइंग शटल के अविष्कार

क्या आप जानते हैं फ्लाई शटल क्या है और फ्लाइंग शटल का आविष्कार कब और किसने किया अगर नहीं तो इस जानकारी को पढ़ते रहिए इसमें हम फ्लाइंग शटल से जुड़े हुए सभी महत्वपूर्ण बातों को जानेंगे।

fly shuttle kya hai

वर्तमान समय में बढ़ती हुई आधुनिकता के कारण कपड़ों की दुनिया में भी बदलाव देखा गया है। फ्लाइंग शटल का आविष्कार 1700 ईस्वी के आसपास किया गया था और तब से यह एक क्रांतिकारी यंत्र साबित हुई।

फ्लाइंग शटल और फ्लाई शटल दोनों एक ही है इसीलिए दोनों को दो समझने की भूल ना करें। हम आपसे फ्लाइंग शटल की जानकारी के साथ-साथ कुछ फोटो भी साझा करेंगे जिससे आपको फ्लाई शटल के बारे में समझने में आसानी होगी आइए जानकारी को शुरू करते हैं।

फ्लाइंग शटल क्या है?

फ्लाइंग शटल एक यांत्रिक उपकरण है जिसका इस्तेमाल कपड़े में बुनाई करने के लिए होता है। फ्लाइंग शटल का उपयोग कपड़े के ऊपर बुनाई के जटिल कार्य को आसान बनाने के लिए होता है। इस यांत्रिक उपकरण का उपयोग सबसे अधिक कपड़ा उद्योग मैं किया जाता है।

कपड़े के ऊपर विभिन्न प्रकार के डिजाइन या आकृति बनाने के लिए फ्लाइंग शटल का उपयोग होता है और इसकी मदद से कपड़े के ऊपर जटिल से जटिल डिजाइन तुरंत हो जाता है।

flying shuttle kya hai

हम सभी जानते हैं कपड़े के ऊपर हाथों से डिजाइन बनाना कितना कठिन है और पुराने समय में लोग कपड़ों के ऊपर हाथों से डिजाइन किया करते थे जिसके कारन डिजाइन वाले कपड़ों की कीमत अधिक होती थी पर फ्लाइंग शटल के आने के बाद कपड़े के ऊपर डिजाइन बनाना आसान हो गया जिससे जिससे डिजाइन वाले कपड़े की कीमत भी कम हुई।

यह भी पढ़ें: City का मतलब क्या होता है? सिटी और शहर में क्या अंतर है?

फ्लाइंग शटल का आविष्कार 

फ्लाइंग शटल का आविष्कार 1733 ईस्वी में जॉन-के (Jhon Kay) के द्वारा किया गया था। फ्लाई शटल मशीन कपड़े के ऊपर बुनाई के कार्यों के लिए एक क्रांतिकारी मशीन साबित हुई।

flying shuttle ka avishkar

फ्लाइंग शटल के आने के बाद कपड़े के ऊपर विभिन्न प्रकार के रंग बिरंगे पैटर्न बनाना आसान हो गया जिससे डिजाइन वाले प्रो की कीमत भी बाजारों में कम हुई।

जॉन के के द्वारा जब फ्लाइंग शटल का आविष्कार किया गया था तब वह चाहते थे की फ्लाइंग शटल एक ऐसा यंत्र बनकर निकले जो कपड़े के ऊपर बुनाई का कार्य बहुत तेज गति से कर पाए और उनकी यह सोच सही निकली और फ्लाइंग शटल हथकरघा उद्योग मैं क्रांतिकारी आविष्कार साबित हुई।

यह भी पढ़ें: खाद्य संरक्षण क्या है? खाद्य संरक्षण की विधि और इसके लाभ और हानि

फ्लाइंग शटल के व्यवहार का हथकरघा उद्योग पर क्या प्रभाव पड़ा

फ्लाइंग शटल के व्यवहार करने पर हथकरघा उद्योग पर कई प्रकार के सकारात्मक प्रभाव देखे गए जिसका विवरण निम्नलिखित रुप से है।

  • हथकरघा उद्योग मैं कपड़ों की बुनाई तीव्र गति से होने लगी।
  • हथकरघा उद्योग से जुड़े हुए व्यापारियों को अधिक मुनाफा होने लगा।
  • बाजारों में विभिन्न प्रकार के डिजाइन वाले कपड़े सस्ते दामों में बिकने लगे।
  • व्यापारी कम समय में अधिक आकर्षण वाले कपड़े बनाने में सक्षम हो पाए।
  • कपड़ों के ऊपर किए गए हथकरघा कार्य वाले कपड़े लोगों को ज्यादा पसंद आने लगे।
  • अधिक से अधिक कपड़ों की बुनाई में मजदूरों की संख्या कम हो गई।

फ्लाइंग शटल के व्यवहार से हथकरघा उद्योग से जुड़े हुए व्यापारी कम कीमतों पर अधिक से अधिक आकर्षक कपड़े बनाने लगे जिससे गरीब लोग भी आकर्षक बुनाई से भरे हुए कपड़े को कम कीमतों पर खरीद पाते थे।

यह भी पढ़ें: भाषा किसे कहते हैं?

फ्लाई शटल क्या होता है?

फ्लाई शटल कपड़े के ऊपर बुनाई वाला मशीन होता है जिसकी मदद से कपड़े के ऊपर रंग-बिरंगे डिजाइन बनाए जाते हैं। यह एक स्वचालित मशीन होती है जो कपड़ों के ऊपर निर्धारित डिजाइन को बनाने में सक्षम है इसे जॉन के (John Kay) के द्वारा 1733 ईसवी में बनाया गया था।

यह स्वचालित मशीन कम से कम समय में अधिक से अधिक कपड़ों के ऊपर विभिन्न प्रकार के डिजाइन बनाने में सक्षम है। इसके आने के बाद मजदूरों की रोजगार छिन गए और वह बेरोजगार हो गए।

यह भी पढ़ें: भर्जन क्या होता है? भर्जन का उपयोग और इसके फायदे एवं नुकसान का क्या है?

प्रश्न और उत्तर

फ्लाई शटल का नकारात्मक प्रभाव क्या है?

फ्लाई शटल मशीन का आविष्कार होने के बाद हथकरघा उद्योग से जुड़े हुए मजदूर वर्ग के लोगों की नौकरी चली गई और वह लोग बेरोजगार हो गए जिससे समाज पर एक नकारात्मक असर पड़ा।

फ्लाइंग शटल का आविष्कार किसने किया?

फ्लाइंग शटल का आविष्कार जॉन के (John Kay) ने 1733 ईस्वी में किया था। John Kay के द्वारा की गई कड़ी तपस्या का ही फल है जो वर्तमान समय में टेक्सटाइल इंडस्ट्री इतनी ऊंचाई पर है।

फ्लाई शटल का अर्थ क्या है?

फ्लाई शटल का अर्थ होता है स्वचालित रूप से उड़ के एक जगह से दूसरी जगह जाकर चीजों को सटल कर देना या ठीक कर देना।

फ्लाइंग शटल का आविष्कार कब हुआ था?

फ्लाइंग शटल का आविष्कार 1733 ईस्वी में इंग्लैंड में हुआ था। फ्लाइंग शटल का आविष्कार ब्रिटिश वैज्ञानिक Jhon Kay के द्वारा किया गया था। 

फ्लाइंग शटल किसे कहते हैं?

कपड़े के ऊपर विभिन्न प्रकार के डिजाइन की बुनाई करने वाले मशीन को फ्लाइंग शटल कहते हैं इसे Khon Kay के द्वारा तैयार किया गया था।

निष्कर्ष

हम सभी जानते हैं कि वर्तमान बाजार में कपड़े के कितने सारे प्रकार मौजूद है तथा उन में विभिन्न प्रकार के डिजाइन भी उपलब्ध है यह फ्लाइंग शटल मशीन के द्वारा ही संभव हो पाया है और इसमें Jhon Kay का एक महत्वपूर्ण योगदान है।

हम आशा करते हैं आपको हमारी फ्लाइंग शटल क्या होता है और फ्लाई शटल का आविष्कार कब और किसने किया तथा फ्लाई शटल की परिभाषा क्या है के ऊपर हमारी यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए व्हाट्सएप और फेसबुक के बटन को दबाकर अभी शेयर करें।

फ्लाइंग शटल क्या है और उससे जुड़ी हुई किसी भी प्रकार के प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

इसी प्रकार की शिक्षा से भरी हुई अनोखी जानकारियों को रोजाना पढ़ने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे कि हर जानकारी आपको तुरंत मिल सके।

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है