होम » शिक्षा » खाद्य संरक्षण क्या है? खाद्य संरक्षण की विधि और इसके लाभ और हानि

खाद्य संरक्षण क्या है? खाद्य संरक्षण की विधि और इसके लाभ और हानि

दोस्तों हम में से बहुत से लोग यह नहीं जानते कि Khad Sanrakshan Kya Hai और खाद्य संरक्षण की विधि क्या है? इसलिए आज हम खाद्य्य संरक्षण के लाभ और हानि क्या है और इस तरीके में किस पदार्थ का प्रयोग किया जाता है जानेंगे।

हमें ऊर्जा प्राप्त करने के लिए सभी को भोजन की आवश्यकता होती है, भोजन खाद्य से बनती है इसलिए हमारे खाद्य को स्वच्छ रखना आवश्यक है।

यदि आपका खाद्य स्वच्छ नहीं रहेगा तो आपको फूड प्वाइजनिंग जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। फूड प्वाइजनिंग लोगों की मौत का एक प्रमुख कारण है।

खाद्य्य संरक्षण और संरक्षण के विभिन्न तरीकों के बारे में अधिक जानने जाने से पहले खाद्य संरक्षण क्या है ( Khad Sanrakshan Kya Hai ) यह जानते हैं।

खाद्य्य संरक्षण क्या है? Khad Sanrakshan Kya Hai 

khad sanrakshan kya hai

खाद्य्य संरक्षण भोजन को सूक्ष्मजैविक वृद्धि से रोकने का एक तरीका है, जिसमें हम खाद्य को इस प्रकार से रखते हैं जिससे उसमें किसी भी तरह का विषाक्तता ना आए और वह लंबे समय तक स्वच्छ रहे।

हम भोजन को कीड़ों द्वारा किसी भी संभावित संक्रमण से बचा रहे हैं जिससे कि खाद्य खराब ना हो जाए। खाद्य्य संरक्षण का उपयोग भोजन को लंबे समय तक संरक्षित करने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़ें: भर्जन क्या होता है? भर्जन का उपयोग और इसके फायदे एवं नुकसान का क्या है?

खाद्य्य संरक्षण के क्या उद्देश्य है?

हम सभी को पूरे साल स्वच्छ भोजन की आवश्यकता होती है लेकिन पूरे साल खेती नहीं होती है खेती सिर्फ चुनिंदा मौसम में होता है।

इसलिए हमारे द्वारा उप जाएं गए खाद्य को हम लंबे समय तक स्वच्छ रखने के लिए खाद्य संरक्षण की प्रक्रिया का इस्तेमाल करते हैं।

खाद्य संरक्षण की कुछ महत्वपूर्ण उद्देश्य है:

  • माइक्रोबियल संदूषण को रोकने के लिए।
  • रोगजनकों कीटाणु को मारने के लिए।
  • खाद्य्य विषाक्तता और खाद्य्य खराब होने को कम करने के लिए।
  • हर मौसम में खाद्य की पूर्ति के लिए।
  • आपातकालीन समय के लिए खास लक्षण जरूरी है।

खाद्य्य संरक्षण के तरीके

खाद्य्य संरक्षण प्राचीन काल से होता आ रहा है, कुछ खाद्य्य संरक्षण विधियां हैं जो सदियों से चली आ रही है।

प्रौद्योगिकी की प्रगति के कारण खाद्य्य संरक्षण के आधुनिक तरीके विकसित किए गए हैं। रसायनों और प्राकृतिक पदार्थों का उपयोग करके खाद्य संरक्षण किया जा रहा है। 

रसायन और प्राकृतिक पदार्थों का उपयोग जिसका इस्तेमाल खाद्य संरक्षण में किया जाता है उसे परिरक्षक कहा जाता है। 

आइए खाद्य संरक्षण विधियों पर अधिक विस्तार से विचार करें:-

1. रासायनिक विधि

माइक्रोबियल विकास को रोकने के लिए सदियों से नमक और खाद्य्य तेलों का उपयोग किया जाता रहा है। इस वजह से अचार अतिरिक्त तेल से भरपूर होता है। 

नमकीन बनाना नमक संरक्षण की एक विधि है। नमक लंबे समय तक फलों को सुरक्षित रखता है। नमकीन मांस और मछलियों को भी सुरक्षित कर सकता है।

रासायनिक विधि द्वारा खाद्य संरक्षण करने में सिरका, सोडियम मेटाबाइसल्फाइट और सोडियम बेंजोएट अन्य सिंथेटिक परिरक्षक के रूप में काम करते हैं।

2. चीनी

एक और आम परिरक्षक चीनी है, चीनी एक उत्कृष्ट नमी अवशोषक है। चीनी नमी की मात्रा को कम करती है और माइक्रोबियल विकास को रोकती है।

3. गर्मी और ठंड दोनों विधियां

प्रशीतन और उबालने से लगभग 70% माइक्रोबियल विकास को रोका जा सकता है।

उबालने से सूक्ष्मजीव मर जाते हैं जो अत्यधिक तापमान को सहन नहीं कर सकते। यह भोजन को संरक्षित करने में मदद करता है।

रेफ्रिजरेटर में तापमान बहुत कम होता है। चूंकि रोगाणुओं को विकास के लिए इष्टतम तापमान नहीं मिलता है, इसलिए वे बाधित होते हैं। लुई पाश्चर की पाश्चराइजेशन तकनीक का उपयोग अभी भी दूध को संरक्षित करने के लिए किया जाता है।

4. धूम्रपान

धूम्रपान मांस और मछली के निर्जलीकरण को रोकता है, और खराब होने से बचाता है। लकड़ी का धुआं एंटी-माइक्रोबियल पदार्थों से भरपूर होता है जो पशु वसा के सड़न और क्षरण को धीमा कर देता है।

5. डिब्बाबंद

खाद्य्य सामग्री को एक एयर टाइट कंटेनर में उच्च तापमान पर रखा जाता है। कैनिंग का उपयोग मांस, मछली और फलों को संरक्षित करने के लिए किया जाता है।

6. बंध्याकरण

यह भोजन से रोगाणुओं को खत्म करने के लिए किया जाता है। 100 डिग्री सेल्सियस पर दूध की नसबंदी द्वारा रोगाणुओं को मार दिया जाता है।

7. निर्जलीकरण

यह भोजन से पानी निकालने की प्रक्रिया है। भोजन को खराब होने से बचाने के लिए यह सबसे बुनियादी तरीका है।

8. विकिरण

इस प्रक्रिया को शीत नसबंदी भी कहा जाता है। भोजन में सभी अवांछित रोगाणुओं को एक्स, यूवी और गामा विकिरणों द्वारा मार दिया जाता है।

 यह भी पढ़ें: 5G Network क्या है और यह कैसे काम करती है एवं इसकी खासियत क्या है।

एक उदाहरण:  दूध को खराब होने से बचाने के लिए हम उसे गर्म करते हैं और सब्जियों को खराब होने से बचाने के लिए हम उसे फ्रिज में रख देते हैं जिससे हमारा भोजन लंबे समय तक स्वच्छ बना रहता है। इस प्रक्रिया में आपने देखा एक जगह हम ठंड का इस्तेमाल कर रहे हैं और एक जगह गर्म।

खाद्य संरक्षण के लाभ – Khad Sanrakshan Ka Labh Kya Hai?

khad sanrakshan kya hai

यदि हम खास लक्षण के लाभ देखें तो इसके कई सारे लाभ निकल के आते हैं आइए कुछ निम्नलिखित बिंदुओं में पढ़ते हैं खाद्य संरक्षण के लाभ क्या है?

  1.  खाद्य संरक्षण से खाद्य को लंबे समय तक स्वच्छ रखा जा सकता है।
  2.  प्रक्रिया को करने के लिए अधिक खर्च भी नहीं आती है और आहार लंबे समय तक स्वस्थ रहता है।
  3.  संरक्षण के तरीकों से खाद्य पदार्थ में उपस्थित कीटाणु और जीवाणु पूरी तरह से खत्म हो जाते हैं।
  4.  खास किस्म की खाद्य को पूरे साल उपलब्ध करवाता है।
  5.  खाद्य संरक्षण आपातकाल समय के लिए बहुत उपयुक्त है।

खाद्य संरक्षण के नुकसान – Khad Sanrakshan Ka Nuksaan Kya Hai?

लाभ के साथ खाद्य संरक्षण के कई नुकसान भी हैं जिसे आप निम्नलिखित बिंदुओं द्वारा समझ सकते हैं।

  1. खाद्य संरक्षण का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि खाद्य का दाम अत्यधिक  तेजी से बढ़ सकता है।
  2. इस तकनीक से भ्रष्टाचार भी देश में बढ़ता है।
  3. इस तकनीक का इस्तेमाल लोग खाद्य चोरी करने के लिए भी करते हैं। 
  4. खाद्य संरक्षण के लिए अत्यधिक जगह की जरूरत पड़ती है।
  5. शिक्षण विधि में कुछ परीक्षक बहुत महंगे हैं जिसके लिए आपको अत्यधिक पैसे लगाने पड़ते हैं।

प्रश्न और उत्तर

खाद्य परीक्षण की आवश्यकता क्यों होती है?

खान परीक्षण की आवश्यकता इसलिए होती है क्योंकि खाद्य कितना स्वच्छ है इसकी जानकारी लेनी जरूरी है नहीं तो खाद्य के उपयोग से फूड प्वाइजनिंग जैसी बीमारियां हो सकती है।

आहार संरक्षण विधि क्या है?

ऐसी विधि जिसके माध्यम से आहार को लंबे समय तक स्वच्छ रखा जा सकता है इसी को आहार संरक्षण विधि कहते हैं। इसमें विभिन्न प्रकार की रासायनिक एवं प्राकृतिक पदार्थों का उपयोग किया जाता है।

खाद्य संरक्षण की परिभाषा?

विधि जिसके माध्यम से किसी भी खाद्य्य पदार्थ को दीर्घ समय तक स्वच्छ एवं उपयोगी बनाए रखने की विधि को खाद्य संरक्षण कहते हैं। 

खाद्य संरक्षण का सिद्धांत क्या है?

खाद्य संरक्षण का सिद्धांत यह है कि खाद्य को लंबे समय तक स्वच्छ एवं उपयोगी बनाए रखना है एवं खाद्य की गुणवत्ता का जांच करना।

फल संरक्षण क्या है?

फल संरक्षण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से किसी भी फल को लंबे समय तक स्वच्छ एवं उपयोगी बनाए रखा जा सकता है। इसका उपयोग लगभग सभी फलों के लिए होता है, क्योंकि आपने बाजारों में देखा होगा आम आपको सभी मौसम में मिल जाते हैं यह इसका एक उदाहरण है।

यह भी पढ़ें:-

  1. शॉटकी दोष क्या है ? शॉटकी दोष के उदाहरण और विशेषताएं
  2. रात के आकाश में 10 सबसे चमकीले तारों का नाम
  3. वचन किसे कहते हैं? वचन कितने प्रकार के होते हैं, एकवचन और बहुवचन के उदाहरण
  4. हमारे सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह कौन सा है
  5. B Pharma Course क्या होता है और कैसे करे?

निष्कर्ष : Khad Sanrakshan Kya Hai

दोस्तों आज हमने आपको बताया खाद्य संरक्षण क्या है ( Khad Sanrakshan Kya Hai ) और खाद्य संरक्षण के विधि एवं तरीका क्या है?

यदि आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमारे इस जानकारी को नीचे दिए गए बटन के माध्यम से अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं।

इसके अलावा खाद्य संरक्षण ( Food Preservation In Hindi ) से जुड़ी कोई भी प्रश्न आपके मन में हो या सुझाव हो तो आप हमें वह नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बता सकते हैं हम अपनी प्रतिक्रिया उस पर अवश्य देंगे।

हम इसी तरह की रोचक जानकारियां रोजाना इस वेबसाइट पर लाते रहते हैं आप चाहें तो आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। 

1 thought on “खाद्य संरक्षण क्या है? खाद्य संरक्षण की विधि और इसके लाभ और हानि”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है