होम » जानकारी » बैल को संस्कृत में क्या कहते हैं?

बैल को संस्कृत में क्या कहते हैं?

bail ko sanskrit mein kya kehte hain

बैल को संस्कृत में वृषभ कहते हैं लेकिन इसके अलावा भी बैल के कई और नाम भी है जिसका इस्तेमाल हम लोगों द्वारा किया जाता है इसलिए आइए जानते हैं बैल को संस्कृत में वृषभ के अलावा क्या कहते हैं? 

यह भी पढ़ें: ऊंट की ध्वनि को क्या कहते हैं?

बैल एक शाकाहारी पशु है लेकिन शाकाहारी होने के बावजूद भी यह बहुत ही शक्तिशाली होते हैं इनके शक्तिशाली होने के कारण ही पुराने समय में किसान खेती के दौरान बैलों का इस्तेमाल किया करते थे।

बैल को संस्कृत और अन्य भाषा में क्या कहते हैं?

बैल को संस्कृत में वृष, वृषभ, ऋषभ और वलीवर्द भी कहते हैं इसके अलावा बैल को शिवपुराण में नंदी भी कहते हैं ये भगवान शिव के वाहन के रूप में जाने जाते हैं तथा हिंदू धर्मों में बैलों को पूजा भी जाता है।

अन्य भाषाओं में बैल के नाम को कहते हैं:

भाषाबैल के नाम
संस्कृतवृष, वृषभ, ऋषभ और वलीवर्द 
हिंदीबैल , सांढ़
अंग्रेजीबुल्स, ऑक्स 
बंगाली बलदा
तमिलइरुतु
पंजाबीबलदा

आपने अभी तक जाना बैल को संस्कृत में क्या कहते हैं और अन्य भाषाओं में बैल के नाम क्या है और बैल को क्या कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: संतुलित आहार किसे कहते हैं?

अब हम बैल के कुछ विशेषताओं के बारे में जानेंगे जिसका जानना आपके लिए जरूरी है इसमें बैल से जुड़े हुए सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं को समाहित किया गया है।

बैल की विशेषता को क्या कहेंगे?

bail ko sanskrit mein kya kehte hain
  1. बैल गाय की संतान है यह जब जन्म लेता है तब आकार में छोटा होता है।  
  2. जन्म के कुल 5 वर्षों तक यह बछड़ा के रूप में रहता है।
  3. इसका मध्यम आकार का सिंह होता है तब इसे बैल कहा जाने लगता है।
  4. बैल मुख्य रूप से हरी घास, मकई आदि खाता है यह पूर्णता शाकाहारी पशु है।
  5. बैल मुख्य तौर से एशिया, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया मैं पाया जाता है।
  6. बैल आमतौर पर आज भी गांव में किसानों के पास देखे जाते हैं।  
  7. इंसान के साथ रहने के कारण यह एक पालतू पशु के रूप में जाना जाता है। 
  8. किसान बैल का इस्तेमाल खेत की जुताई में करते हैं।  
  9. बैल का शरीर भारी भरकम होता है इसलिए यह गाड़ी खींचने का काम भी करती है।

बैल को ऑस्ट्रेलिया और भारत में को बुलॉक भी कहते हैं। स्पेन में वार्षिक रूप से बुलफाइट नाम का त्योहार मनाया जाता है। इस उत्सव में बैल को खुला छोड़ दिया जाता है और एक आदमी लाल रंग का कपड़ा लेकर उसके सामने खड़ा रहता है यह उत्सव काफी मजेदार होता है विश्व में या काफी प्रसिद्ध है।

यह भी पढ़ें: प्रश्नावली किसे कहते हैं?

स्पेन ऑस्ट्रेलिया अमेरिका इंग्लैंड आदि कई देशों में बुल फाइट का आयोजन किया जाता है इसी तरह का त्योहार भारत के केरल में मनाया जाता है भारत में इस त्यौहार को जल्लीकट्टू कहते हैं।

बैल के बचपन को संस्कृत में क्या कहते हैं?

बैल के बचपन को संस्कृत में बछरू या बृषाब भी कहते हैं जो दिखने में वास्तविक रूप से बहुत सुन्दर होते हैं। समाज में इनका पालन पोषण पालतू पशु के रूप में होता है लेकिन बड़े होने पर इनका इस्तेमाल कृषि में किया जाता है। 

यदि आप अपने गाओं में जाएंगे तो अभी भी आपको बैल देखने को मिल जाएगा और आप उनके सुंदरता को देख सकते हैं।

यह भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग किसे कहते हैं?

पश्न और उतार

बैल को आदि संस्कृत में क्या कहते हैं?

बैल को आदि संस्कृत में वृषभ कहते हैं जो हिंदी से भी पहले इस्तेमाल किया जाता था। 

बैल की लड़ाई भारत में कहा होती है?

बैल की लड़ाई भारत में केरल में होती है जहाँ दो बैलो को आपस में लराया जाता है। 

बांग्ला में बैल को क्या कहते हैं?

बैल को बांग्ला में बलाद कहते है इनका यही नाम पंजाब में भी उपयोग होता है। 

यह भी पढ़ें: सघन बस्ती किसे कहते हैं?

निष्कर्ष

बैल को संस्कृत में क्या कहते है यह जाने के साथ हमें इसके उपयोगता को समझना चाहिए और हिन्दू धर्म में बैल के महत्त्व अत्याधिक है।

हम आसा करते हैं आपको बैल को संस्कृत में क्या कहते हैं और बैल की विशेषता हिंदी और हिंदुस्तान में क्या है के ऊपर हमारी यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया जानकारी को अभी अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सप्प के माध्यम से शेयर करें।

बैल को संस्कृत आदि में क्या कहते हैं और बैल के बचपन के नाम को क्या कहेंगे से जुड़ी हुई कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमने निचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उतर आपको अवश्य देंगे।

इसी पारकर की जानकरियों को रोज़ाना पढ़ने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब भी कर सकते हैं जिससे हर महत्वपूर्ण जानकारी आपतक पहुँचती रहेगी।

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है