होम » जानकारी » साबुन की परिभाषा क्या है? साबुन कैसे काम करता है? साबुन का इतिहास

साबुन की परिभाषा क्या है? साबुन कैसे काम करता है? साबुन का इतिहास

आप सभी किसी ना किसी कंपनी का साबुन इस्तेमाल करते होंगे लेकिन आपको साबुन के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं होगी जैसे कि साबुन क्या है?  साबुन कैसे बनता है और इसके फायदे एवं नुकसान क्या है?

sabun kya hota hai

साबुन हमने अपने दैनिक जीवन में रोजाना इस्तेमाल करते हैं और इसका काफी महत्व है इसके बिना तो कभी-कभी हम नहाते भी नहीं है।

अगर आप एक छात्र हैं तो साबुन से जुड़े हुए प्रश्न भी आपको परीक्षाओं में पूछ लिए जाते होंगे इसलिए आपको साबुन क्या है से लेकर क्यों है? तक की जानकारी होनी चाहिए।

साबुन क्या है?

साबुन सोडियम या पोटेशियम लवण फैटी एसिड से बनाया जाता है, साबुनीकरण नामक प्रक्रिया में 80-100 डिग्री सेल्सियस पर सोडियम या पोटेशियम हाइड्रोक्साइड जैसे क्षार के साथ तेलों पर प्रतिक्रिया करके साबुन प्राप्त किया जाता है।

वसा + NaOH —> ग्लिसरॉल + फैटी एसिड का सोडियम नमक 
CH2-OOC-R – CH-OOC-R – CH2-OOC-R (वसा) + 3 NaOH (या KOH) 
दोनों गर्म —>
CH2-OH -CH-OH – CH2-OH (ग्लिसरॉल) + 3 R-CO2-Na (साबुन) R=(CH2)14CH3

साबुन बनाने की प्रक्रिया को साबुनीकरण कहते हैं और साबुन एक ऐसा पदार्थ होता है जो हमारे शरीर की त्वचा और कपड़ों को पानी में घुल कर साफ करता है।

साबुन की परिभाषा क्या है?

ऐसा पदार्थ जो पानी में घुल कर हमारे त्वचा एवं हमारे कपड़ों को साफ करने की क्षमता रखती है उसे साबुन कहते हैं, जिसका इस्तेमाल हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं।

नहाने वाले साबुन के कई फायदे होते हैं जो निम्नलिखित रुप से हैं:

  • त्वचा को साफ करें
  • साबुन प्राकृतिक रूप से जीवाणुरोधी होते हैं
  • संक्षारक एसिड को हटाना
  • तेल और गंदगी साफ करना
  • मुंहासों को रोकना

साबुन का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि वह हमारे पृथ्वी पर मौजूद जनों को प्रदूषित करता है जो कि आने वाले मानव जीवन के लिए बिल्कुल भी उचित नहीं है।

यह भी पढ़े: Referral Code क्या होता है?

साबुन का रासायनिक गुण कैसे काम करता है?

लगभग सभी  साबुन इन दो श्रेणियों में से एक के अंतर्गत आते हैं:

  1. हाइड्रोफिलिक: ‘पानी से प्यार करने वाला’
  2. हाइड्रोफोबिक: ‘पानी से नफरत करने वाला’

हाइड्रोफिलिक पानी और कोई भी पदार्थ है के साथ मिल सकता है। हाइड्रोफोबिक तेल और कोई अन्य पदार्थ है जो तेल के साथ मिल सकता है। तेल और पानी मिलाने पर ये अलग हो जाते हैं। आप हाइड्रोफिलिक और गैर-हाइड्रोफिलिक यौगिकों को नहीं मिला सकते हैं।

साबुन की ध्रुवीय और गैर-ध्रुवीय संरचनाएं, घुलनशीलता सिद्धांतों के आवेदन के साथ, इसके सफाई गुणों को निर्धारित करती हैं।

हाइड्रोकार्बन श्रृंखला की लंबाई हाइड्रोफोबिक और नॉनपोलर है। साबुन के अणु का “नमक” सिरा आयनिक, हाइड्रोफिलिक (पानी में घुलनशील) होता है।

साबुन के अणु गैर-ध्रुवीय तेल अणुओं और ध्रुवीय पानी के अणुओं के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करते हैं, जब वे ग्रीस या तेल (गैर-ध्रुवीय हाइड्रोकार्बन) के साथ जुड़ जाते हैं।

चूंकि साबुन के अणुओं में गैर-ध्रुवीय और ध्रुवीय दोनों गुण हो सकते हैं, इसलिए उन्हें एक पायसीकारक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। एक इमल्सीफायर एक तरल को दूसरे में फैल सकता है।

इसका मतलब है कि साबुन तेल और गंदगी को निलंबित कर सकता है ताकि इसे धोया जा सके। साबुन मिसेल बनाएगा, जो मिसेल में वसा को फँसाता है। मिसेल को आसानी से धोया जा सकता है क्योंकि यह पानी में घुलनशील है।

साबुन और पानी को मिलाने से साबुन के छोटे अणु बनते हैं जो छोटे समूह बनाते हैं, जिन्हें मिसेल कहा जाता है। मिसेल की बाहरी सतह पानी से प्यार करने वाले (हाइड्रोफिलिक), साबुन के अणुओं का हिस्सा है।

यह भी पढ़े: D Pharma Kya Hota Hai

साबुन के अणुओं के तेल-प्रेमी, हाइड्रोफोबिक भाग अंदर की तरफ एक समूह बनाते हैं। वे पानी को नहीं छूते हैं। मिसेल वसा को केंद्र में फंसा सकते हैं।

साबुन और अपमार्जक (डिटर्जेंट) के बीच का अंतर क्या है?

साबुन और डिटर्जेंट में बहुत सारे अंतर आपको देखने को मिलते हैं जो निम्नलिखित है:

साबुनअपमार्जक (डिटर्जेंट)
यह नहाने के काम में आता है।यह कपड़े साफ करने के काम में आता है।
इसमें हानिकारक पदार्थ नहीं मिलाए जाते हैं।इसमें हानिकारक पदार्थ मिलाए जाते हैं जो कपड़े में कीटाणुओं को मारता है।
यह अच्छे किस्म के तेल और वसा से बना हुआ होता है।यह सस्ते किस्म के तेल और वसा से बना हुआ होता है।
यह पानी के साथ आसानी से नहीं घुलते है।यह पानी में जल्दी घुलते हैं।
साबुन के कई सारे प्रकार होते हैं जो अलग-अलग जगहों पर इस्तेमाल किया जाता है।डिटर्जेंट केवल कपड़ों के साफ करने के लिए ही होता है।

साबुन का इतिहास क्या है?

साबुन कम से कम 2,300 वर्षों से अस्तित्व में है। रोमन साम्राज्य साबुन बनाने में पारंगत था। यह रोमनों को प्राचीन भूमध्यसागरीय लोगों या ब्रिटानिया के सेल्ट्स द्वारा इसका उपयोग सिखाया गया था।

सेल्ट्स जो जानवरों की चर्बी या पौधों की राख से साबुन बनाते हैं, उन्हें सैपो साबुन कहा जाता है। 

sabun kya hai

यह ज्ञात नहीं था कि साबुन सफाई और धोने के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन ग्रीक चिकित्सक गैलेन ने इसे एक दवा के रूप में और शरीर को शुद्ध करने के तरीके के रूप में उल्लेख किया है।

साबुन का उपयोग पहले दवा के रूप में किया जाता था, 8वीं सदी के अरब जानकार जाबिर इब्न हेयान (गेबर), बार-बार साबुन को सफाई करने वाले के रूप में संदर्भित करते हैं।

मध्य युग में यूरोप में साबुन का उत्पादन पहले मार्सिले में, फिर जेनोआ में और अंत में वेनिस में हुआ। मध्य यूरोप में इसका व्यापक रूप से उपयोग नहीं किया गया था। 

ए. लियो नाम के एक जर्मन ने 1672 में लेडी वॉन श्लेनिट्ज़ को इटली से साबुन युक्त एक पैकेज भेजा। उन्होंने इसका उपयोग करने के तरीके के बारे में एक विस्तृत विवरण भी शामिल किया।

यह भी पढ़े: कहवा किसे कहते हैं?

12वीं शताब्दी की शुरुआत में, ब्रिस्टल में पहले अंग्रेजी साबुन बनाने वाले स्थापित किए गए थे। साबुन बनाने वालों का एक छोटा समूह 13वीं और 14वीं सदी में लंदन के चेप्ससाइड पड़ोस में बड़ा हुआ।

उन दिनों सभी साबुन निर्माताओं को एक शुल्क देना पड़ता था। नेपोलियन के युद्धों के बाद यह कर बढ़कर तीन पेंस प्रति पाउंड हो गया। 

प्रश्न और उत्तर

साबुन की परिभाषा क्या है?

एक ऐसा पदार्थ जिसके अंदर ऐसी क्षमताएं हो जो पानी में घुल  कर हमारे त्वचा एवं हमारे वस्त्रों को साफ कर सके इसे ही साबुन कहते हैं।

नहाने का साबुन कैसे बनता है?

नहाने का साबुन वनस्पति तेल, कास्टिक सोडा और कास्टिक पोटाश को गर्म जलीय घोल में मिलाकर साबुन प्राप्त किया जाता है  और इसमें खुशबू लाने के लिए अलग से फ्लेवर मिलाया जाता है।

ओसवाल साबुन बनाने की विधि क्या है?

ओसवाल साबुन बनाने के लिए आपको मैदा, कास्टिक सोडा, नमक और सोडा सिलीकेट को अच्छे से पानी में डालकर मिलाया जाता है तत्पश्चात आपको ओसवाल साबुन प्राप्त होता है।

लक्स साबुन कैसे बनता है?

लक्स साबुन को नहाने की श्रेणी में रखा गया है इसलिए इसे बनाने के लिए अच्छे किस्म के तेल और वसा का इस्तेमाल किया जाता है जिससे कि साबुन मुलायम और सुगंधित बने।

कपड़े धोने के साबुन के नाम?

कपड़े धोने के दो साबुन अभी भारतीय बाजारों में उपलब्ध हैं  जिनका नाम सनलाइट  और घड़ी है यदि आप दुकानदारों से कपड़े धोने का साबुन मांगेंगे तो वह आपको इन कंपनियों में से कोई एक देगा।

यह भी पढ़े: लैंडमार्क किसे कहते हैं?

निष्कर्ष

साबुन हमारे दैनिक जीवन में अत्यंत उपयोगी है और यह में स्वच्छ रखने का कार्य अच्छे से करता है इसलिए इसका रोजाना उपयोग करें।

आशा करता हूं आपको हमारी साबुन की परिभाषा क्या है और साबुन के फायदे और नुकसान क्या है तथा साबुन किस तरह से काम करता है एवं साबुन और डिटर्जेंट में अंतर  से संबंधित यह जानकारियां अच्छी लगी होंगी।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया आप हमारे इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर करें।

हम इसी प्रकार की रोचक जानकारियां यहां रोजाना लाते रहते हैं आप चाहे तो हमारे वेबसाइट को आप सब्सक्राइब भी कर सकते हैं।

2 thoughts on “साबुन की परिभाषा क्या है? साबुन कैसे काम करता है? साबुन का इतिहास”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है