होम » जानकारी » Welding Kya Hai Aur Kitne Prakar Ki Hoti Hai

Welding Kya Hai Aur Kitne Prakar Ki Hoti Hai

नमस्कार दोस्तों आप सभी ने वेल्डिंग का नाम सुना होगा पर उसके विषय में आपको पूरी जानकारी नहीं होगी जैसे Welding Kya Hai और Welding Kitne Prakar Ki Hoti Hai यदि आपको इन सभी के विषयों के बारे में जानना है तो इस लेख को अवश्य पढ़ें।

welding kya hai aur kitne prakar ki hoti hai

दुनिया भर में बड़ी-बड़ी इमारतें बन रही है इसके पीछे बहुत ऊंचे स्तर पर वेल्डिंग को काम में लिया जाता है वेल्डिंग के बिना बड़े-बड़े इमारत से लेकर बड़े-बड़े हवाई जहाज तक बनाना लगभग नामुमकिन है, इसलिए वर्तमान समय में वेल्डिंग का महत्व बहुत अधिक है।

यदि आप एक आम इंसान भी हैं तो आपको वेल्डिंग के बारे में जानकारी होनी चाहिए क्योंकि घर में भी बहुत से ऐसे कार्य होते हैं जिससे मैं हमें वेल्डिंग की जरूरत पड़ती है। 

वेल्डिंग अलग-अलग स्तर पर काम करता है बाजारों में कम दामों से लेकर महंगे से महंगे वेल्डिंग कराए जाते हैं क्योंकि उस वेल्डिंग में एक खास किस्म का “Welding Stick” का इस्तेमाल किया जाता है, जैसा आपका “Welding Stick”  होगा उतना ज्यादा महंगा वेल्डिंग Price होगा। 

Welding Kya Hai

welding kya hai

वेल्डिंग एक प्रकार की प्रक्रिया है जिसके द्वारा दो या दो से अधिक धातुओं को एक साथ जोड़ा जाता है इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए दोनों धातुओं को बहुत अधिक तापक्रम पर गर्म किया जाता है, अच्छी तरह से गर्म हो जाने पर दोनों को  निश्चित दबाव के माध्यम से जोड़ दिया जाता है।

वेल्डिंग शब्द का हिंदी अर्थ है “दोनों को आपस में जोड़ना” इसलिए हम वेल्डिंग शब्द का प्रयोग दो धातु को जोड़ने के समय करते हैं।

जब दो धातुओं को गर्म करके जोड़ा जाता है गर्म रहने तक वह पूरी तरह से जुड़ नहीं पाती है जब दोनों ठंडे हो जाते हैं तो पूरी तरह से जुड़ जाते हैं इसी प्रक्रिया को वेल्डिंग कहते हैं।

Welding Kya Hota Hai

वेल्डिंग एक प्रकार का निर्माण प्रक्रिया है जिसका उपयोग चीजों को जोड़ने के काम में आता है, आपने कभी वेल्डिंग करते हुए किसी आदमी को देखा होगा कि वह दो धातु को जोड़ते समय एक अलग प्रकार का धातु का इस्तेमाल करता है जिसे गला कर दो अलग धातुओं को जोड़ा जाता है, इसे वेल्डिंग “ रोड” या छड कहते हैं।

इसे करने की बहुत सारी अलग-अलग प्रक्रियाएं हैं जिसे आपकी जरूरत के अनुसार उपयोग में लाया जाता है। वेल्डिंग को हम विज्ञान की भाषा में समझे तो यह “ थरमाप्लास्टिक”  सिद्धांतों पर काम करता है।

वेल्डिंग की प्रक्रिया काफी जोखिम भरी होती है इसलिए आपको वेल्डिंग प्रक्रिया के समय हमेशा सावधान रहना चाहिए। इस प्रक्रिया में सबसे ज्यादा अधिक खतरा हमारी आंखों को होता है, इसलिए वेल्डिंग करने वाला व्यक्ति हमेशा अपनी आंखों पर काले चश्मे का इस्तेमाल करता है या फिर शील्ड का इस्तेमाल करता है।

Welding Kise Kahte Hain

दो या दो से अधिक धातुओं को एक निश्चित तापक्रम पर गरम करने के बाद एक निश्चित दबाव के सहारे जोड़ दिया जाता है इसी प्रक्रिया को हम झलाई या वेल्डिंग कहते हैं।

साधारण भाषा में समझे तो अलग-अलग प्रकार के धातुओं को जोड़ने की प्रक्रिया को भी वेल्डिंग कहते हैं, कभी-कभी सिर्फ दबाव के सहारे भी वेल्डिंग किया जा सकता है और दबाव कितना होना चाहिए यह आपकी धातुओं पर निर्भर करता है। हालांकि, वेल्डिंग करने जितना दबाव पैदा करना साधारण तो मुश्किल है  इसलिए बाजारों में अधिकतर तापमान के सहारे वेल्डिंग किया जाता है।

Welding Kitne Prakar Ki Hoti Hai

welding kitne prakar ki hoti hai

वेल्डिंग के बहुत सारे प्रकार होते हैं  यह आपके जरूरत के ऊपर निर्भर करता है कि आप उनका इस्तेमाल कब और कहां करते हैं, हमने आपको 20 प्रकार के वेल्डिंग बताए हैं, इसके अलावा भी बहुत सारे वेल्डिंग के प्रकार हैं। 

  1. अर्क वेल्डिंग
  2. गैस वेल्डिंग
  3. अल्ट्रासाउंड वेल्डिंग
  4. प्लाज्मा वेल्डिंग
  5. इलेक्ट्रॉन बीम वेल्डिंग
  6. स्पॉट वेल्डिंग
  7. फ्लैश वेल्डिंग
  8. ऑफसेट वेल्डिंग
  9. प्रोजेक्शन वेल्डिंग
  10. लेजर बीम वेल्डिंग
  11. कोल्ड प्रेशर वेल्डिंग
  12. इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेल्डिंग
  13. फ्रिक्शन वेल्डिंग
  14. हॉट प्रेशर वेल्डिंग
  15. अल्ट्रासोनिक वेल्डिंग
  16. थरमाइट वेल्डिंग
  17. इलेक्ट्रो गैस वेल्डिंग
  18. एक्सप्लोजन वेल्डिंग
  19. डिफ्यूजन वेल्डिंग
  20. ऑक्सीजन वेल्डिंग 

हम बाजारों में जो वेल्डिंग देखते हैं वह आमतौर पर “Arch Welding” या “Solid Welding” होता है इसका उपयोग अधिक होता है। 

कुछ वेल्डिंग के प्रकार जिसका इस्तेमाल बाजारों में अधिक होता है जैसे Arch, Mig और Gas वेल्डिंग आइए जानते हैं इन सब के बारे में।

Arc Welding Kya Hai 

Arc वेल्डिंग एक ऐसे प्रकार की वेल्डिंग प्रक्रिया है जिसमें धातुओं को पिघलाने और जोड़ने के लिए जो तापक्रम चाहिए वह इलेक्ट्रिक Arc से उत्पन्न किया जाता है इसलिए इस वेल्डिंग प्रक्रिया को Arc वेल्डिंग कहते हैं।

इस वेल्डिंग प्रक्रिया में विद्युत की खपत अत्यधिक होती है इसलिए यह कभी-कभी थोड़ी महंगी हो जाती है छोटे से बड़े उद्योग तक इसका इस्तेमाल करते हैं क्योंकि यह धातुओं को काफी अच्छी तरीके से जोड़ती है। 

Mig Welding Kya Hai

एमआइजी वेल्डिंग मोटी धातुओं को काफी अच्छी तरीके से जोड़ता है यहां बड़े उद्योगों में काफी अच्छा काम करता है क्योंकि बड़े उद्योगों में वेल्डिंग का कार्य लंबे समय तक चलता है इसलिए बड़े उद्योगों में एमआइजी वेल्डिंग का प्रयोग किया जाता है। यह मोटी धातुओं को अच्छी तरह से जोड़ता है और उसे लंबे समय तक जोड़े रखने में कारगर साबित होता है। 

Tig Welding Kya Hai

Tig वेल्डिंग अधिकतर छोटे उद्योगों में इस्तेमाल किया जाता है यहां पतली धातुओं को वर्ल्ड करने के लिए अधिक उपयोग में लाया जाता है क्योंकि यहां पतली धातुओं को बहुत ही सही तरीके से साफ-साफ जोड़ देती है।

लंबे समय जोर के लिए Tig वेल्डिंग काफी अच्छी और प्रभावी है।

Gas Welding Kya Hai 

गैस वेल्डिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें दो धातुओं को जोड़ने के लिए जो तापक्रम चाहिए वह एसिटिलीन जैसे गैसों को जलाकर उत्पन्न किया जाता है  जिससे धातुओं को गर्म करके एक साथ जोड़ा जाता है इस तरह के वेल्डिंग को गैस वेल्डिंग कहते हैं। यह बिल्डिंग महत्वपूर्ण बिल्डिंग के प्रकारों में से एक है 

वेल्डिंग के क्या फायदे है

  • यह हल्के होते हैं
  • इनकी लागत कम होती है
  • इसमें कोई लीकेज का भी डर नहीं होता है
  • इनका उत्पादन समय कम है
  • ज्यादा दबाव सह सकता है
  • यह देखने में काफी अच्छा लगता है
  • काफी मजबूत भी होता
  • इन्हें अलग-अलग भागों में जोड़ना भी बहुत आसान है
  • यह अधिक लचीलापन प्रदान करता है
  • इसे लगाना बहुत आसान होता है
  • पूंजी निवेश कम

वेल्डिंग के क्या नुकसान है

  • कंपन को कम करने की क्षमता नहीं होती है जिसके कारण यह टूट भी सकता है
  • वेल्डिंग के उपयोग से वातावरण प्रदूषित होता है
  • इसके निर्माण की गुणवत्ता कारीगर पर निर्भर होता है
  • अच्छे वेल्डिंग के लिए अधिक रुपए खर्च करने पड़ते हैं 

वेल्डिंग के अंतर्गत पूछे जाने वाले सवाल

Types Of Welding In Hindi?

प्रक्रिया के आधार पर वेल्डिंग के लगभग 30 से भी ज्यादा प्रकार होते हैं कुछ के नाम जैसे  गैस वेल्डिंग, लेजर बीम वेल्डिंग, इलेक्ट्रॉन वेल्डिंग, ऑक्सीजन गैस वेल्डिंग, फ्रिक्शन वेल्डिंग, रेजिस्टेंस वेल्डिंग, ऑफसेट वेल्डिंग, प्रोजेक्शन वेल्डिंग, स्पॉट वेल्डिंग, अल्ट्रासाउंड वेल्डिंग, सुपर सोनिक वेल्डिंग, लेजर बीम वेल्डिंग, फ्लैश वेल्डिंग, इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेल्डिंग और इत्यादि।

Gas Welding Me Konsi Gas Use Hoti Hai?

गैस वेल्डिंग में  कार्बन डाइऑक्साइड, आर्गन, हीलियम, एसिटिलीन, प्रोपेन, ब्यूटेन और ऑक्सीजन जैसी गैसों का इस्तेमाल किया जाता है, इसके अलावा भी छोटे बड़े गैसों को मिक्सर के रूप में इन गैसों में मिला दिया जाता है।

Welding Position Kitne Prakar Ki Hoti Hai?

फ्लैट वेल्डिंग पोजिशन ,वर्टिकल वेल्डिंग पोजिशन, होरिजेंटल वेल्डिंग पोजिशन, ओवरहेड वेल्डिंग पोजिशन

निष्कर्ष

दोस्तों वेल्डिंग एक अच्छा अविष्कार है और यह आपको ज्यादा विकल्प देता है जिसे आप नए-नए चीजों को बना सकते हैं, वेल्डिंग यदि अच्छे से की जाए तो यह कभी भी नुकसानदायक नहीं होता है लेकिन यदि आपका वेल्डिंग सही से नहीं किया गया हो तो यह एक दुर्घटना का कारण भी बन सकता है इसलिए हमेशा वेल्डिंग के बाद उसकी जांच सही से कर ले।

यह भी जरूर पढ़े: e-Rupi Kya Hai

मैं आशा करता हूं वेल्डिंग क्या होता है, एमआइजी वेल्डिंग क्या है, गैस वेल्डिंग क्या है और Types Of Welding In Hindi जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। आप चाहें तो इस जानकारी को आप अपने दोस्तों को फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से शेयर कर सकते हैं।

यदि आपके मन में वेल्डिंग से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं हम उसका उत्तर देने का प्रयत्न करेंगे, धन्यवाद। 

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है