होम » खाना » खस क्या होता है? खस पत्तियों के शरबत का फायदे और नुकसान क्या है?

खस क्या होता है? खस पत्तियों के शरबत का फायदे और नुकसान क्या है?

आप सभी ने खस का पौधा देखा होगा लेकिन आपको उसकी विशेषताओं की सही जानकारी नहीं होगी इसलिए आइए जानते हैं खस क्या है और खस के शरबत के फायदे क्या होता है और इसके पौधे दिखने में कैसे होते हैं।

khas kya hai

खस के पौधे का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के दबाव, घरेलू उत्पाद तथा अन्य पदार्थों को बनाने के लिए किया जाता है। खस पौधे के अन्य विशेषताओं के बारे में जानने से पहले हमें खस क्या है यह जानना होगा।

खस क्या है? 

खस एक प्रकार का खुशबूदार घास है जो झीलों के आसपास पानी वाली भूमि या नदियों तथा तालाबों के किनारे उगते हैं। खस को अंग्रेजी में Vetiver Grass कहते हैं और भारतीय उपमहाद्वीप आयुर्वेद में खस के उपचार गुणों के लिए जाना जाता है। यह सुगंधित घास आपकी त्वचा की सभी समस्याओं के लिए एक बढ़िया विकल्प है।

आयुर्वेद कहता है कि खस की मिट्टी की गंध में सुखदायक कंपन और आवृत्ति होती हैं। यह मन को शांति प्रदान करने में भी मदद करता है।

यह भी पढ़ें: जिलेटिन पाउडर क्या होता है?

खस का घास कैसा होता है?

खस घास के पौधे 6 फीट तक ऊंचे हो सकते हैं। खस के पत्ते ईख के पत्तों की तरह दिखते हैं। खुस के पत्तों की चौड़ाई और लंबाई तीन इंच तक होती है। खस के पत्ते ऊपर से चिकने और सीधे होते हैं और अंदर से मुड़े हुए होते हैं।

khas kya hota hai
खास का पौधा

यह कई प्रकार की मिट्टी और जलवायु के अनुकूल हो सकता है। इसे अत्यधिक अम्लीय, सोडिक, क्षारीय या लवणीय मिट्टी पर उगाया जा सकता है। Vetiver इसकी मिट्टी में बहुत उच्च स्तर के मैंगनीज, एल्यूमीनियम और अन्य भारी धातुओं को सहन कर सकता है।

यह अत्यधिक गर्मी 50 डिग्री सेल्सियस, ठंड 10 डिग्री सेल्सियस का सामना कर सकता है, और कम से कम 450 मिमी वार्षिक वर्षा वाले क्षेत्रों में उगाया जा सकता है। 

यह लाल, पीले और हरे रंग के फूल पैदा करता है। तने की लंबाई 4-12 इंच होती है। बरसात के मौसम में फूल आते हैं। फल फूल आने के बाद बनते हैं।

खस की जड़ें पतले धागे होते हैं जो जमीन में 2 फीट से अधिक गहराई तक पहुंचते हैं। जड़ का रंग हल्का पीला या भूरा होता है। जड़ कई छोटे रोम छिद्रों से जुड़ी होती है।

यह भी पढ़ें: कहवा किसे कहते हैं?

खस की गीली जड़ें उसकी सूखी जड़ों से ज्यादा सुगंधित होती हैं। खस का उपयोग मुख्य रूप से गर्मियों के दौरान दरवाजे और खिड़कियों को ढकने के लिए किया जाता है। इससे हवा की महक और भी बढ़ जाती है। 

खस शरबत के फायदे क्या है?

  1. अच्छा रक्त परिसंचरण: खस आयरन, मैंगनीज और बी 6 विटामिन का एक बड़ा स्रोत है। यह आयरन युक्त रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और रक्तचाप को काफी हद तक नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।
  2. आंखों में लाली कम करना: खस भी जिंक का एक अच्छा स्रोत है जो आंखों की समस्याओं को रोकने में मदद कर सकता है। गर्मियों में खस शरबत का एक गिलास अत्यधिक गर्मी के कारण होने वाली लालिमा को कम करने में मदद कर सकता है।
  3. अत्यधिक प्यास कम करता है: खस शरबत का ताज़ा गिलास प्यास को कम करने में मदद करता है। इसके पोषण मूल्य को बढ़ाने के लिए आप इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं।
  4. यह एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है: ये एंटीऑक्सीडेंट प्रतिरक्षा को बढ़ावा देते हैं और अंगों को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं।
  5.  शरीर को हाइड्रेट करना: इस मौसम में अपने शरीर को हाइड्रेट रखें खस शरबत के नियमित सेवन से निर्जलीकरण को रोकने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें: ग्रीन टी पीने के सही समय और फायदे

खस की जड़ और पत्तियों का पाउडर के लाभ क्या है?

आप चाहे तो खस के जड़ों और पत्तियों का पाउडर के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं इसके अलावा आप सीधे पत्तियों को पानी के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं जिसके निम्नलिखित लाभ है।

खस की जड़ और पत्तियों का पाउडर के निम्नलिखित लाभ:

  1. जलन: इसका उपयोग आग से संबंधित जलन को शांत करने के लिए भी किया जा सकता है।
  2. पेशाब में जलन : खस के चूर्ण का सेवन करने से भी पेशाब में किसी प्रकार की रुकावट दूर हो जाती है।
  3. बुखार : इसके सेवन से होने वाले अत्यधिक पसीने का उपयोग बुखार के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।
  4. दिल का दर्द : एक चम्मच खस ​​का चूर्ण लें इससे आपका दिल का दर्द खत्म हो जाएगा।
  5. बच्चों में दस्त : रोजाना आधा चम्मच लें यह अतिसार संबंधी रोगों के उपचार में कारगर है।
  6. चर्म रोग : गर्मी में होने वाली त्वचा की सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए आप रोजाना खस से बना शरबत पी सकते हैं।
  7. साइटिका : साइटिका के रोगी को खस ​​के काढ़े का सेवन करना चाहिए यह साइटिका के दर्द से राहत दिलाता है।
  8. गले का दर्द : खस ​​का काढ़ा बनाकर गरारे करने से गले का दर्द दूर होता है और आवाज साफ होती है।
  9. सिर में रूसी : बालों में खस ​​मिलाकर दूध या पानी का प्रयोग कर सिरों पर मालिश करने से रूसी से छुटकारा मिलता है।
  10. चोट : दर्द से राहत के लिए खस ​​का लेप का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  11. पेट दर्द : पुदीना की जड़ और खस ​​को एक साथ खाने से पेट का दर्द दूर होता है।

यह भी पढ़ें: जाने अरारोट Powder क्या है?

खस खाने के नुकसान

  1. अत्यधिक मात्रा में खस घास का सेवन करने से पेट भरा हुआ महसूस होता है और सर्दी खांसी होने की संभावना बनी रहती है।
  2. खस की तासीर ठंडी होती है इस वजह से यह आपके शरीर में फ्लू जैसी बीमारियों को आकर्षित कर सकता है।
  3. खस  का सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: संतुलित आहार किसे कहते हैं?

खस और खसखस (पोस्ता दाना) में क्या अंतर है?

खसखसखस (पोस्ता दाना)
यह एक खुशबूदार घास है जिसका इस्तेमाल ब्यूटी प्रोडक्ट और दवा बनाने में होता है।यह अफीम के फूल के दानों से प्राप्त होता है जिसका इस्तेमाल खाद पदार्थ के रूप में किया जाता है। 
यह पत्तों के रूप में प्राप्त होता है।यह फूल के रूप में प्राप्त होता है।
इसमें विटामिन ए बी सी पाया जाता है।इसमें ओमेगा-6 फैटी एसिड पाया जाता है।
इसमें ठंडे के गुण पाए जाते हैं।इसमें गर्मी के गुण पाए जाते हैं।
यह अधिकतर दवा और तेल बनाने के लिए इस्तेमाल होता है।यह अधिकतर खाने के रूप में इस्तेमाल होता है जैसे आलू सरसों पोस्तो।
इसका इस्तेमाल पानी के साथ करने से पेट संबंधित सभी बीमारियां दूर हो जाती है।इसका इस्तेमाल दूध के साथ करने पर अनिद्रा की बीमारी दूर हो जाती है। 

यह भी पढ़ें: खांसी कैसे ठीक करें उसके 10 घरेलु उपाय

प्रश्न और उत्तर

खस की तासीर क्या होती है?

खस की तासीर खस के पौधों की पत्तियों से निकली भाग होती है जिसमें अत्यधिक नमी होती है और इसके इस्तेमाल से आपको सर्दी भी हो सकती है।

खस का उपयोग कब करें?

खस का उपयोग तब करें जब गर्मियों से आपकी त्वचा में गर्माहट तथा पेट संबंधित बीमारियों का अनुभव हो तब आप इसका उपयोग कर सकते हैं।

खस और खसखस में मुख्य अंतर क्या है?

खस एक प्रकार का घास है और खसखस एक प्रकार का पौधा है तथा बोलचाल की भाषा में खसखस को पोस्ता भी कहते हैं।

दवा में खस का उपयोग क्या है?

दवा में खस का उपयोग तेल के माध्यम तथा पाउडर के माध्यम से किया जाता है तथा इसका उपयोग ठंडी से संबंधित दवाइयों के रूप में किया जाता है।

क्या खस एक प्रकार का आयुर्वेदिक औषधि है?

खस एक प्रकार का आयुर्वेदिक औषधि है क्योंकि इसमें शरीर के लिए अत्यधिक लाभप्रद विटामिन ए विटामिन बी विटामिन सी पाया जाता है जिसके माध्यम से कई प्रकार की बीमारियों को ठीक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Corn Flour Kya Hota Hai

निष्कर्ष

खस एक प्रकार का अद्भुत पौधा है जिसमें सुगंध के साथ-साथ कई प्रकार के औषधि वाले गुण होते हैं। इसलिए हम इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के घरेलू उपचार में आसानी से कर सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं आप को खस क्या है और खस का पौधा कैसा होता है तथा खस की पत्तियों का शरबत के फायदे और नुकसान क्या है इसके ऊपर हमारी यह जानकारी अच्छी लगी होगी।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए फेसबुक, व्हाट्सएप तथा ट्विटर के माध्यम से शेयर करें।

खस क्या है जुड़ी हुई कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

इसी प्रकार स्वास्थ्य एवं खाद पदार्थ से संबंधित जानकारियों को रोजाना अपने फोन पर प्राप्त करने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

1 thought on “खस क्या होता है? खस पत्तियों के शरबत का फायदे और नुकसान क्या है?”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है