होम » स्वास्थ्य » खांसी कैसे ठीक करें उसके 10 घरेलु उपाय हिंदी में जाने

खांसी कैसे ठीक करें उसके 10 घरेलु उपाय हिंदी में जाने

अनुत्पादक खांसी को सूखी खांसी भी कहा जाता है, आज हम आपको बताएंगे सूखी खांसी कैसे ठीक करें, ऐसे घरेलू उपाय जो आप घर में इस्तेमाल करके अपनी सूखी खांसी को दूर कर सकते हैं। 

sukhi khansi kaise thik kare gharelu upay

सूखी खांसी फेफड़ों या नाक के मार्ग से गीली खांसी जैसे से बलगम या कफ को नहीं निकलता है, लेकिन यहां गीली खांसी के मुकाबले ज्यादा कष्टकारी होती है और हमें अधिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

सूखी खांसी बहुत आम है और बच्चों और वयस्कों दोनों को प्रभावित करती है। आप सूखी खांसी के लिए चिकित्सा उपचार की तलाश कर रहे हैं।

आज हम आपको 10 ऐसे उपाय बताएंगे जिसका इस्तेमाल आप घर में करके अपनी सूखी खांसी का उपचार कर सकते हैं और यह बहुत ही प्रभावी है। इन सब उपायों का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर की सलह अवश्य ले।

Sukhi Khansi Kaise Thik Kare Gharelu Upay

सूखी खांसी के लिए बहुत से ऐसे घरेलू उपचार हैं, जिसका इस्तेमाल करके आप अपनी सूखी खांसी तुरंत ठीक कर सकते हैं, लेकिन आपको घरेलू उपचार की सही सही जानकारी होनी चाहिए।

आइए देखते हैं कि कौन-कौन से ऐसे घरेलू चीजें हैं जिसका इस्तेमाल करके हम अपनी सूखी खांसी को तुरंत ठीक कर सकते हैं।

1. शहद

शहद का उपयोग वयस्कों और बच्चों में एक वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों में सूखी खांसी के लिए किया जाता है। शहद जीवाणुरोधी है और जलन को शांत करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है, जिससे हमारी सूखी खांसी जल्द ठीक हो जाती है।

जिन बच्चों को रात के समय लगातार खांसी होती है, उनके लिए शहद एक खांसी को कम करने वाला तत्व है जो की आम घरेलू उपचारों की तुलना में अधिक प्रभावी साबित हुआ है।

जब आपको रात में लगातार बिना रुके खांसी हो रही हो या फिर आप रात में खांसी से ज़ायदा परेशान हो रहे हैं , उस समय आप २ चम्मच शहद खा लें। इससे आपको तुरंत आराम मिल जायेगा।

शहद में “डेक्स्ट्रोमेथोर्फन” नामक तत्व पाया जाता है जो हमारी सूखी खांसी को तुरंत ठीक करने में हमारी सहायता करता है।

शहद को आप सीधे चम्मच से खा सकते हैं या तो आप इसे गरम पानी में मिलकर पी सकते हैं। शहद के चाय को और भी प्रभावी बनाने के लिए उसमें आप तुलसी का पत्ता मिलाकर उबाल सकते हैं।

एक बात का आपको खास ध्यान रखना है कि 1 साल से कम उम्र के बच्चों को शहद कभी भी नहीं देना चाहिए।

2. हल्दी

वैसे तो हल्दी को दर्द और जोड़ों के रोगो का रामबाण इलाज माना गया है परन्तु साथ ही साथ ये खांसी के लिए भी काफी उत्तम औषधि मानी गयी है। इसका सेवन आप गुनगुने दूध के साथ मिला कर सकते हैं।

“करक्यूमिन” हल्दी में पाया जाने वाला एक यौगिक है जिसमें “एंटी-इंफ्लेमेटरी” और “एंटीवायरल” गुण होते हैं। यह सूखी खांसी के लिए भी मददगार होता है।

करक्यूमिन आपके रक्त प्रवाह में खांसी वाले तत्व को अवशोषित करने के लिए सबसे अच्छे संयोजन हैं।आप चाहे तो इसे चाय के रूप में भी ले सकते हैं । चाय बनाने के लिए एक चम्मच हल्दी और 1/8 चम्मच काली मिर्च मिलाएं और तुलसी के साथ मिलकर बना लें ।

आयुर्वेद में ऊपरी श्वास की स्थिति, ब्रोंकाइटिस, और दमा के इलाज में हल्दी को सबसे उपयुक्त औषधि माना गया है।

3. अदरक

अदरक जीवाणुरोधी है, अक्सर देखा गया है कि इसे लोग चाय के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। अदरक रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में काफी सहायक है साथ ही साथ ये दर्द और परेशानी को दूर करने के लिए बहुत कारगर है।

अदरक को एक घटक के रूप में उपयोग किया जाता है और अदरक की जड़ को चाय में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कटी हुई या छिली हुई जड़ को गर्म पानी में डुबोकर रखें। सूखी खांसी के लिए अदरक की चाय को और भी प्रभावी बनाने के लिए आप उसमें शहद और तुलसी का पत्ता मिला सकते हैं।

सूखी खांसी को दूर करने के लिए आप अदरक को कैप्सूल के रूप में भी ले सकते हैं या अदरक की जड़ को चबा सकते हैं।

4. पुदीना

जैसा कि आप सभी को पता है की पुदीना को एक औषधि के रूप में माना गया है। यह पेट और स्वांस से संबधित बीमारी को दूर करने के लिए सब से अधिक उपयोगी माना गया है। खांसी श्वांस से सम्बंधित बीमारी है इसका इलाज करने के लिए हम पुदीना का प्रयोग कर सकते हैं।

पुदीना में मेन्थॉल होता है, जो आपके गले में खांसने से परेशान तंत्रिका को शांत करने में मदद कर सकता है। यह दर्द से राहत प्रदान करता है और खांसी की इच्छा को कम करता है।

पुदीना में जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण हैं, पुदीना लेने के कई तरीके हैं। आप पुदीना चाय पी सकते हैं या पुदीना चबा सकते हैं, रात में होने वाले कंजेशन को कम करने के लिए आप सोने से पहले पुदीने की चाय पी सकते हैं।

5. कुकुरमुत्ता के जड़

कुकुरमुत्ता के जड़ को एक प्रकार की जड़ी-बूटी के रूप में वर्णित किया जा सकता है। इस जड़ी बूटी का उपयोग सूखी खांसी को दूर करने और कफ सिरप के रूप में किया जाता है।

यह गले को सूखने और सूखी खांसी के कारण होने वाली जलन को कम करने के लिए एक प्रभावी उपचार है, कुकुरमुत्ता के जड़ में जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं।

6. मसाला चाय 

भारत में पारंपरिक रूप से चाय का उपयोग गले में खराश और सूखी खांसी के इलाज के लिए किया जाता है। मसाला चाय में कई एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं, जैसे लौंग,अदरक, तुलसी और इलायची।

लौंग को “एक्सपेक्टोरेंट” के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। मसाला चाय में दालचीनी भी होती है, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो हमारी सूखी खांसी ठीक करने में हमारी बहुत मदद करता है।

मसाला चाय बनाना बहुत आसान है इसके लिए आपको गर्म पानी में चीनी, लौंग, इलाइची और दालचीनी मिलाकर उबालना है जिससे हमारा मसाला चाय बनकर तैयार हो जाएगा।

7. मिर्च की चटनी

पुरानी खांसी को कम करने के लिए मिर्च की चटनी बहुत कारगर है, इसके लिए आप शिमला मिर्च का भी प्रयोगकर सकते हैं।

शिमला मिर्च की चटनी बनाना बहुत आसान है इसके लिए आप शिमला मिर्च को अच्छे से पीसकर उसकी चटनी बना ले फिर अलग से थोड़ा पानी गर्म करके उसमें चटनी की कुछ मात्रा मिला लें जिससे वह चाय के रूप में बन जाएगा और आप उसे पी सकते हैं। यह आपकी सूखी खांसी तुरंत ठीक करने में आपकी बहुत सहायता करेगा।

8. एयर प्यूरीफायर

एयर प्यूरीफायर सुनकर आपको लग रहा होगा कि यह किस काम का है लेकिन नहीं यह भी सूखी खांसी को ठीक करने में बहुत मददगार साबित होने वाला घरेलू उपाय है। 

कई सारे लोगो को धुल और प्रदूषण से एलर्जी होती है। ऐसे लोगो को चाहिए की वो अपने रूम में एयर प्यूरीफायर लगवा लें जिससे हवा में गन्दगी काम होगी और खांसी होने की संभावना कम रहेगी।

आपने देखा होगा कि जो लोग शहरी क्षेत्र में रहते हैं वहां भीड़ भाड़ होने के कारण वायु बहुत प्रदूषित होती है उदाहरण के रूप में दिल्ली शहर में बहुत अधिक प्रदूषित वायु होने के कारण वहां के लोगों अधिक बीमार पड़ते हैं और खांसी से जूझते हैं।

आप अपने घर को धूल, धुएं और अन्य वायुजनित परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए एक वायु शोधक का उपयोग करते हैं। 

एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल आप अपने घर के अंदर मौजूद दूषित हवाओं को स्वच्छ बना सकते हैं और स्वच्छ वायु मैं सांस लेने से खांसी जैसी समस्याएं तुरंत ठीक हो जाती है।

 

9. गर्म पानी से गरारा करें 

पानी से गरारे करें आप सूखी खांसी के लक्षणों को शांत करने के लिए गर्म पानी में नमक का उपयोग कर सकते हैं।  गरम पानी गले और मुंह में बैक्टीरिया को भी मारता है।

इसे बनाने के लिए एक बड़े गिलास गर्म पानी में 1 चम्मच नमक मिलाएं। इस मिश्रण से दिन में कई बार गरारे करें।

यदि आप रात में सोते समय  खांसी होने से गले में जलन के साथ जाग कर बैठ जाते हैं, तो अपने दांतों को ब्रश करने के तुरंत बाद नमक के पानी से गरारे करें ताकि आपके गले की नसों को आराम मिलें और खांसी शांत करने में मदद मिल सके।

यदि आप इसका इस्तेमाल सही रूप से दिन में दो से तीन बार करते हैं तो आपकी खांसी चाहे वह गीली खांसी हो चाहे वह सूखी खांसी वह तुरंत ठीक हो जाएगी। इस तरह के घरेलू उपाय आप आसानी से घर में कर सकते हैं।

10. अलसी के बीज

अलसी के बीज को हम पहले उबाल लेंगे, हमे ये तब तक उबालना है जब तक की बीज मोटे न हो जाएं। उबले हुए पानी को हम कप में निकाल के उसमे शहद ४-५ बूँद मिला के साथ ही उसमे तुलसी के २ पत्ते डाल के उसका सेवन करें।। इससे आपको खांसी से राहत मिलेगी।

इसे चाय की तरह अधिकतम १-२ कप का ही सेवन करें। एकबार में ज़ायदा सेवन सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

सूखी खांसी कैसे ठीक करने के घरेलू उपाय में से यह एक सबसे अच्छा उपाय है, इसका सही रूप से इस्तेमाल करने पर आपकी खांसी ठीक हो जाएगी।

निष्कर्ष

दोस्तों सूखी खांसी एक बहुत बड़ी जटिल समस्या है जो आम जिंदगी में हमें निरंतर देखने को मिलता है। इसलिए आप अपने स्वास्थ्य का ध्यान अवश्य रखें क्योंकि आपका स्वास्थ ही आप की एकमात्र पूंजी है।

यह भी जरूर पढ़े: पतंजलि मेधावटी के फायदे

दोस्तों हम आशा करते हैं कि आपको हमारी सूखी खांसी कैसे ठीक करें घरेलू उपाय हिंदी में अच्छी लगी होगी? आप चाहे तो आप हमारे इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से शेयर कर सकते हैं।

हम इसी प्रकार की जानकारी रोजाना अपने Newinhindi.In वेबसाइट पर लाते रहते हैं। इसके अलावा आप हमारे वेबसाइट के फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं धन्यवाद। 

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है