होम » टेक्नोलॉजी » Compass क्या है? कम्पास का पूरा नाम और प्रिजमेटिक कंपास का उपयोग

Compass क्या है? कम्पास का पूरा नाम और प्रिजमेटिक कंपास का उपयोग

दोस्तों सही सही दिशा का पता लगाना बहुत कठिन है लेकिन यदि आप कंपास का उपयोग करते हैं तो यह आपके लिए आसान हो जाता है क्योंकि कंपास का आविष्कार दिशा का सही ज्ञान प्राप्त करने के लिए ही किया गया था आइए जानते हैं कंपास क्या अर्थ होता है और प्रिजमेटिक कंपास का उपयोग क्या है तथा कम्पास का पूरा नाम क्या है।

कंपास का उपयोग करना बहुत ही मजेदार है। यह आपको कुछ ही सेकंड में सही सही दिशा बता देता है और इसकी खास बात यह है कि यह पृथ्वी के किसी भी हिस्से पर काम करती है।

कम्पास क्या है?

compass kya hai

कंपास एक उपकरण है जिसमें घड़ी की तरह कांटा लगा हुआ होता है और यह कांटा हमेशा उत्तर और दक्षिण दिशा को दर्शाता है। कंपास हमेशा आपको सही दिशा दिखाता है क्योंकि यह पृथ्वी के चुंबकीय सिद्धांत पर कार्य करता है। 

सीधे शब्दों में कहें तो कम्पास को एक उपकरण के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो सही दिशा को इंगित करता है। इसका उपयोग उत्तर, दक्षिण और पूर्व दिशाओं को खोजने के लिए किया जाता है। इन दिशाओं को कार्डिनल दिशाएँ भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: मुल्यांकन क्या है? मूल्यांकन के अर्थ और प्रकार की विशेषता

यह धातु का एक चुंबकीय टुकड़ा है जो पृथ्वी के चुंबकीय उत्तरी ध्रुव की ओर मुड़ता है। पॉकेट कंपास सबसे लोकप्रिय है जिसका उपयोग सबसे अधिक किया जाता है। पॉकेट कंपास घड़ी की तरह दिखता है, और जब इसे हाथ में रखा जाता है तो यह उत्तर दिशा को दर्शाता है। 

कम्पास का पूरा नाम क्या है?

कम्पास का पूरा नाम “दिशा सूचक यंत्र” है जो आपको सही सही दिशा बताने का कार्य करता है भले ही आप पृथ्वी के किसी भी स्थान पर मौजूद हो।

compass ka pura naam kya hai

कंपास को बनाने में किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक चीजों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है यह पूरी तरह से पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल पर आधारित होता है।

यह भी पढ़ें: एटीएम का पूरा नाम क्या है?

कम्पास कैसे कार्य करता है?

पृथ्वी एक विशाल चुम्बक है जिसके दो बल केंद्र हैं: उत्तर और दक्षिणी ध्रुव। जैसे ही ग्रह घूमता है, इसका कोर, जो ज्यादातर पिघला हुआ लोहा होता है, एक चुंबकीय क्षेत्र बनाता है। इस प्रकार उत्तर और दक्षिण चुंबकीय ध्रुव का काम करते हैं और कम्पास इसी चुंबकीय ध्रुव के अनुसार कार्य कर पाता है।

एक कंपास सुई चुंबकीय धातु से बना है, आमतौर पर लौह। इसे एक पिन या धुरी पर रखा जाता है और तरल में निलंबित कर दिया जाता है ताकि इसे स्वतंत्र रूप से चालू किया जा सके। 

जब आपके हाथ में कंपास रखा जाता है, तो कंपास की सुई पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का पता लगा सकती है। वर्तमान में पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र उत्तर दिशा की ओर है इसलिए हमेशा कंपास की सुई उत्तर दिशा को दिखाती है।

यह भी पढ़ें: Teleprompter क्या है?

आप कम्पास के चारों ओर छोटे माप भी पा सकते हैं। इन मापों को डिग्री के रूप में जाना जाता है। सुई का लाल सिरा हमेशा उत्तर की ओर और सफेद तथा काले सिरे हमेशा दक्षिण की ओर इशारा करते हैं।

कंपास के प्रकार

कंपास के कार्य सिद्धांत के अनुसार इसे अलग-अलग भागों में बांटा गया है। वर्तमान में आपको काफी सारे काम पास के प्रकार देखने को मिल जाते हैं लेकिन मुख्य रूप से कंपास के चार प्रकार ही होते हैं जिसका विवरण निम्नलिखित रूप से हमें मिलता है। 

compass ke prakar

कम्पास के प्रकार निम्नलिखित हैं:

  1. चुम्बकीय कंपास (Magnetic Compass)
  2. जीपीएस कंपास (GPS compass)
  3. दिक्सूचक (Gyro Compass)
  4. एस्ट्रो कंपास (Astro Compass)

इन कंपास में से मुख्य रूप से चुंबकीय कंपास का उपयोग सबसे अधिक होता है और क्यों पर चुंबकीय बल पर कार्य करता है।

यह भी पढ़ें: जानो मुक्त व्यापार क्या है?

चुंबकीय कंपास

चुंबकीय कंपास आपको उत्तर दिशा को खोजने में मदद करती है इस कंपास में लगी हुई हुई हमेशा उत्तर दिशा को प्रदर्शित करती है। चुंबकीय कंपास पृथ्वी के चुंबकीय बल के सिद्धांतों पर कार्य करता है। यह सबसे लोकप्रिय कौन पास है जो सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है। प्रिजमेटिक कंपास इसी कंपास का एक उदाहरण है।

जीपीएस कंपास

जीपीएस (ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) अब प्रमुख कंपास है। इसे पहली बार 1973 में संयुक्त राज्य अमेरिका में पेश किया गया था। GPS निर्देशांक भेजने के लिए पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमा करने वाले उपग्रहों का उपयोग करता है। ये संकेत बेहद विश्वसनीय और सटीक हैं। कई जहाज और विमान अभी भी नेविगेट करने के लिए उन्नत कंपास का उपयोग करते हैं।

दिशा सूचक कंपास

दिशा सूचक कंपास सही उत्तर दिशा की ओर इशारा करता है क्योंकि यह अपने चुंबकीय क्षेत्रों के बजाय पृथ्वी की कक्षा का उपयोग करता है।

इसे जाइरोस्कोप कहा जाता है और इसे 1906 में हरमन अंसचुट्ज़-केम्फ द्वारा बनाया गया था। यह आमतौर पर बड़े विमानों और जहाजों द्वारा उपयोग किया जाता है। यह कंपास पृथ्वी के उत्तर दिशा को खोजने के लिए, यह पृथ्वी के घूर्णन या अक्ष का अनुसरण करता है।

एस्ट्रो कंपास

एस्ट्रोकंपास अंतरिक्ष में निश्चित बिंदुओं के साथ संरेखित होते हैं, जैसे कि तारे। यद्यपि चुंबकीय कंपास की तुलना में उनका उपयोग करना अधिक कठिन होता है, वे उन क्षेत्रों में बहुत उपयोगी होते हैं जहां चुंबकीय या Gyro Compasses विश्वसनीय नहीं हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: भाबर क्या होता है? और भाबर की विशेषताएं

प्रिजमेटिक कंपास सर्वेक्षण क्या है?

prismatic compass sarvekshan kya hai

प्रिज्मीय कम्पास सर्वेक्षण एक प्रकार का प्रिज्मीय कम्पास सर्वेक्षण है जिसका उपयोग केवल असर के रूप में पहचाने जाने वाले कोणों को निर्धारित करने के लिए किया जाता है और माप टेप के द्वारा सीमा को निर्धारित किया जाता है जिसमें प्रिजमेटिक कंपास एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। प्रिजमेटिक कंपास को हिंदी में फ्रिज में कंपास भी कहते हैं। 

यह भी पढ़ें: लैंडमार्क किसे कहते हैं?

प्रिज्म कंपास बहुत ही हल्का और लचीला होता है जिस वजह से इसे हाथों से आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है और कहीं भी इसे अपने साथ में ले जाया जा सकता है।

कंपास का उपयोग क्या है?

  • कंपास का उपयोग मानचित्र के निर्माण करने के लिए किया जाता है।
  • कंपास का उपयोग दिशाओं का सही सही पता लगाने के लिए होता है।
  • यह आपको नए रास्ते खोजने के लिए भी मदद करता है।
  • कंपास का सर्वाधिक उपयोग समुद्री रास्तों में किया जाता है।
  • इसका उपयोग मोबाइल फोन में भी किया जाने लगा है।
  • कंपास विभिन्न प्रकार के धातुओं का पता लगाने के लिए भी कारगर है।
  • कंपास का उपयोग पृथ्वी के जटिल गुरुत्वाकर्षण का पता लगाने के लिए भी किया जाता है।

यह भी पढ़ें: Distance Learning क्या है? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

कम्पास से जुड़े तथ्य

  • पृथ्वी का चुंबकीय उत्तरी ध्रुव भौगोलिक उत्तरी ध्रुव के साथ संरेखित नहीं है, जिसे ट्रू नॉर्थ के नाम से भी जाना जाता है।
  • सच्चा उत्तर हमेशा पृथ्वी के शीर्ष पर होता है। चुंबकीय उत्तर एक निश्चित बिंदु नहीं है। यह समय के साथ पृथ्वी के मूल में परिवर्तन के कारण बदलता है। पायलट और नाविक इसे भूमि नाविकों द्वारा “चुंबकीय घोषणा” कहते हैं।
  • ग्रीनविच (लंदन) में सितंबर 2019, ट्रू नॉर्थ और मैग्नेटिक नॉर्थ को 360 से अधिक वर्षों में पहली बार संरेखित किया गया था।

कम्पास का इतिहास क्या है?

लगभग 200 ईसा पूर्व, चीनी के हान राजवंश ने पहला कंपास उपयोग दर्ज किया। उन्होंने पाया कि कुछ जमीनी धातु चुंबकीय थी, और पहले प्रकार के लिए लोहे की सुइयों को चुम्बकित करने के लिए इस धातु का उपयोग करने में सक्षम थे, जिसे लोडस्टोन या मैग्नेटाइट कहा जाता है।

पहला कम्पास एक चुम्बकीय सुई से बनाया गया था जो लकड़ी के टुकड़े पर पानी में तैरती थी। इसका मुख्य रूप से बैकअप के रूप में उपयोग किया जाता था जब तारे या सूर्य को नहीं देखा जा सकता था। उपकरण अधिक उपयोगी और लोकप्रिय हो गए क्योंकि अधिक लोगों ने चुंबकत्व को समझा और उनका उपयोग करना सीखा।

यह भी पढ़ें: Greenfield Airport क्या होता है? ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के नाम और विशेषता

12वीं शताब्दी में प्रारंभ वैज्ञानिकों द्वारा चुंबकत्व की खोज देखी गई। इस सदी में, कंपास सुई को एक पिन से जोड़ा गया था और, 13 वीं शताब्दी में, कंपास कार्ड जोड़े गए थे। यह कंपास कार्ड शुरू में चार मुख्य कार्डिनल दिशाओं तक सीमित था। हालांकि, यह समय के साथ 32 दिशात्मक बिंदुओं को शामिल करने के लिए विकसित हुआ।

प्रश्न और उत्तर

कंपास का अर्थ क्या होता है?

कंपास का हिंदी अर्थ होता है दिशा सूचक अतः जो उपकरण हमें सही-सही दिशा का सूचना दे सके उसे ही हम कंपास कहते हैं।

कंपास को हिंदी में क्या कहते हैं?

कंपास को हिंदी में दिशा सूचक यंत्र कहते हैं जो किसी भी दिशा का पता लगाने के लिए किया जाता है।

कंपास गुलाब मानचित्र क्या है?

एक कंपास गुलाब मानचित्र, कंपास और समुद्री चार्ट पर पाया जा सकता है। इसे “विंडरोज़” या “रोज़ ऑफ़ द विंड्स” भी कहा जाता है। 12वीं सदी में यूरोपीय लोगों द्वारा कम्पास गुलाब का निर्माण किया गया था। इसने आठ प्रमुख पवन दिशाओं के निर्माण की अनुमति दी।

एक कंपास असर वास्तव में क्या है?

किसी स्थान का असर वह कोण होता है जिसमें उत्तर रेखा रेखा को काटती है। यह रेखा और बिंदु के बीच की दूरी है। इसका एक उदाहरण 90 डिग्री पर पूर्व की ओर किसी वस्तु का असर होगा।

यह भी पढ़ें: विश्व में कुल कितने देश है उन देशों के नाम

निष्कर्ष

दुनिया के विकास में कंपास ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई इसलिए हम सभी को कंपास के बारे में पता होना चाहिए और इसके महत्व को कभी भी भूलना नहीं चाहिए। शिक्षा के क्षेत्र से लेकर औद्योगिक क्षेत्र में भी कंपास का उपयोग होता है।

हम आशा करते हैं आप को हमारे द्वारा कंपास क्या है और कंपास का अर्थ तथा उपयोग क्या होता है एवं कंपास के प्रकार का महत्व क्या होता है इतिहास सहित वर्णन के ऊपर यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए फेसबुक और व्हाट्सएप बटन को दबाकर अभी शेयर करें जिससे कि वह भी इस जानकारी के महत्व को जान सकें।

कंपास का अर्थ क्या होता है से संबंधित किसी भी प्रकार के प्रश्न या सुझाव आपके पास हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

इसी प्रकार की रोचक जानकारियों को रोजाना पढ़ने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे की जानकारी आपको जल्द मिल सके।

2 thoughts on “Compass क्या है? कम्पास का पूरा नाम और प्रिजमेटिक कंपास का उपयोग”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है