होम » शिक्षा » Distance Learning क्या है? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

Distance Learning क्या है? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

आप अपने छात्र जीवन के दौरान कभी ना कभी डिस्टेंस लर्निंग के बारे में सुना होगा आइए जानते हैं डिस्टेंस लर्निंग क्या होता है और डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें तथा इससे किए गए कोर्स के क्या फायदे हैं? Distance Learning और Distance education को हिंदी में दूरस्थ शिक्षा कहते हैं।

distance learning se graduation kaise karen

ध्यान दें Distance Learning और Distance education एक ही है दोनों को अलग समझने की भूल ना करें। वर्तमान समय में Distance Learning तेजी से बढ़ रही है। डिस्टेंस लर्निंग में भविष्य में काफी संभावनाएं हैं। Distance Learning उन लोगों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प है जिनके पास नौकरी है और वह अपनी शिक्षा जारी रखना चाहते हैं।

Distance Learning क्या है?

कॉलेज और विश्वविद्यालयों से दूर रहकर की जाने वाली पढ़ाई ही डिस्टेंस लर्निंग है इसमें छात्रों को कॉलेज जाने की जरूरत नहीं पड़ती है वह घर पर रहकर ही पढ़ाई कर सकते हैं। Distance Learning छात्रों को ऑनलाइन बिना किसी समय बंधन के पढ़ाई करने की सुविधा देता है।

डिस्टेंस लर्निंग मैं आपको सभी प्रकार के ग्रेजुएशन कोर्स देखने को मिल जाते हैं जिसे आप कक्षा बारहवीं के बाद से ही कर सकते हैं। आगे हम जानकारी में डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें इसे विस्तार में जानेंगे।

यह भी पढ़ें: पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं का जवाब

Distance Learning से ग्रेजुएशन क्यों करें?

डिस्टेंस लर्निंग आपको क्यों करें इसका उत्तर बहुत ही साधारण है। अगर हम डिस्टेंस लर्निंग के लाभ को देखेंगे तो हमें उसके कई संभावित कारण देखने को मिल जाएंगे जिसके आधार पर हम डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के कारण

  • समय का लचीलापन : औपचारिक शिक्षा के लिए वर्तमान प्रणाली कठोर है पर डिस्टेंस लर्निंग हमें अपने मुताबिक समय चुनने का मौका देता है।
  • जनसंख्या वृद्धि के अनुकूल : महत्वपूर्ण जनसंख्या वृद्धि ने मौजूदा शिक्षा के बुनियादी ढांचे पर बहुत अधिक दबाव डाला है जिससे मांग को पूरा करना अधिक कठिन हो गया है।
  • असीमित सीमाएँ : देश के सुदूर क्षेत्रों में रहने वाले छात्र अक्सर औपचारिक शिक्षा प्राप्त करने में असमर्थ होते हैं। यह भारत में Distance Learning को एक आकर्षक विकल्प बनाता है।
  • कोई आयु सीमा नहीं : किसी भी उम्र का व्यक्ति जो ग्रेजुएशन करना चाहता है वह डिग्री प्रोग्राम पाठ्यक्रम में नामांकन कर सकता है, चाहे उसका स्थान या उम्र कुछ भी हो।
  • कम खर्च : भारत में Distance Learning पाठ्यक्रम नियमित कॉलेज शिक्षा से सस्ता है। 
  • उच्च ग्रेजुएशन करने का मौका : डिस्टेंस लर्निंग सक्रिय पेशेवरों को अपनी नौकरी का त्याग किए बिना अपनी वर्तमान योग्यता बढ़ाने की अनुमति देता है।
  • छात्रों का स्व-सुधार : छात्र इन Distance Learning पाठ्यक्रमों के माध्यम से स्व-अध्ययन के तरीके सीखते हैं। इससे उनके आत्म-सम्मान में सुधार होता है और उन्हें अधिक स्पष्ट रूप से सोचने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें: Graduation और Post Graduate Kya Hota Hai

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के फायदे

distance learning se online graduation kaise karen

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें यह जानने से पहले हमें डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के फायदे को जानना महत्वपूर्ण है तभी हम इसके महत्व को समझ पाएंगे।

  • छात्र के अंदर स्व-प्रेरणा आता है
  • मनपसंद वाली ग्रेजुएशन कोर्स चुन सकते हैं
  • समय से स्वतंत्र
  • कहीं से भी ग्रेजुएशन करें
  • कमाई करते हुए ग्रेजुएशन कर सकते हैं
  • समय और धन की बचत
  • आभासी यात्राएं होती है

यह भी पढ़ें: D Pharma Kya Hota Hai

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

यदि आप डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन आवेदन कर डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कर सकते हैं।

इसमें आपको हर प्रकार की ग्रेजुएशन कोर्स करने का मौका मिलता है आप अपनी पसंद के अनुसार ग्रेजुएशन कोर्स चुन सकते हैं। डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए इन चरणों का पालन करें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन के लिए आवेदन करने के चरण

distance learning se graduation kaise karen
  1. IGNOU की वेबसाइट पर जाएं।
  2. यदि आप पहले से पंजीकृत उम्मीदवार नहीं हैं, तो नए पंजीकरण का अनुरोध करने के लिए फॉर्म भरें।
  3. अपने चुने हुए पाठ्यक्रम के पाठ्यक्रम आईडी को नोट कर लें।
  4. अगला, “एप्लिकेशन” पर क्लिक करें।
  5. आवेदन पत्र को पूरा करें।
  6. आपको एक साल की कोर्स फीस देनी होगी।
  7. सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें।
  8. सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  9. इसके बाद आपका फॉर्म स्वीकार कर लिया जाएगा। 
  10. उम्मीदवारों को अपना आवेदन ऑनलाइन प्राप्त करने के बाद शुल्क जमा करना होगा।

सूचना: एक बार सभी विवरण और दस्तावेजों का सत्यापन हो जाने के बाद, आपका आवेदन अधिकारियों द्वारा स्वीकार कर लिया जाएगा। इसके बाद डिस्टेंस लर्निंग में आपका एडमिशन ग्रेजुएशन कोर्स के लिए हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: CV का फुल फॉर्म और मतलब क्या होता है

डिस्टेंस लर्निंग में ग्रेजुएशन सेमेस्टर आधारित होता है, लेकिन पंजीकरण सालाना किया जाता है। आपको प्रत्येक शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत से पहले दूसरे वर्ष (तीसरे और चौथे सेमेस्टर), और तीसरे वर्ष (चौथे, पांचवें और पांचवें सेमेस्टर) के लिए फिर से पंजीकरण करना होगा।

भारत में डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से किया जाने वाला ग्रेजुएशन कोर्स

इस सूची में बताए गए सभी डिस्टेंस लर्निंग ग्रेजुएशन कोर्स के नाम के साथ योग्यता की जानकारी भी दी गई है और इसी योग्यता के आधार पर आप निश्चित ग्रेजुएशन कोर्स में नाम लिखा सकते हैं।

ग्रेजुएशन कोर्स के नामयोग्यता
BA (हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, उर्दू, राजनीतिक विज्ञान, इतिहास, समाजशास्त्र, लोक प्रशासन, अर्थशास्त्र, शिक्षा, सामाजिक कार्य, पत्रकारिता, होटल मैनेजमेंट, इत्यादि)10+2
BSC (सूचना प्रौद्योगिकी, जैव, भौतिकी, गणित, रसायन, वनस्पति, जूलॉजी,वनस्पति, बायोकेमिस्ट्री, एप्लाइड केमिस्ट्री, बायो टेक्नोलॉजी, इंटीरियर डिजाइनर, फैशन डिजाइनर, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, इत्यादि)10+2
BLIS (बैचलर ऑफ लाइब्रेरी इनफार्मेशन साइंस)ग्रेजुएशन
BCom (बैचलर ऑफ कॉमर्स)10 + 2
BBA (बीबीए)10 + 2
बीमा और जोखिम प्रबंधन10 + 2
BCA (ग्राफिक्स, मल्टीमीडिया)10 + 2
बीएससी योग और प्राकृतिक चिकित्सा में 10 + 2 पीसीबी
फैशन मार्केटिंग और प्रमोशन10 + 2
फैशन टेक्नोलॉजी10 + 2
BBA10+2

यह भी पढ़ें: Red Data Book क्या है? रेड डाटा बुक के फायदे एवं नुकसान क्या है?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए सबसे अच्छे विश्वविद्यालय

भारत का सबसे बड़ा और सबसे प्रसिद्ध Distance Learning से ग्रेजुएशन करने वाला विश्वविद्यालय इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, नई दिल्ली है। 

यह केंद्र सरकार द्वारा 1985 में लंबी दूरी और खुली शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से भारत के नागरिकों के लिए शिक्षा प्रदान करने के मिशन के साथ स्थापित किया गया था।

यह 4 मिलियन से अधिक के छात्र निकाय का दावा करता है और इसे भारत के 10 सर्वश्रेष्ठ Distance Learning विश्वविद्यालयों में से एक के रूप में भी स्थान दिया गया है।

भारत में स्थित सबसे अच्छे डिस्टेंस लर्निंग विश्वविद्यालय के नाम

  • इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय
  • अन्नामलाई विश्वविद्यालय
  • उस्मानिया विश्वविद्यालय
  • सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय
  • नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय
  • महात्मा गांधी विश्वविद्यालय
  • कर्नाटक राज्य मुक्त विश्वविद्यालय
  • आईसीएफएआई विश्वविद्यालय

सूची में दी गई सभी विश्वविद्यालय काफी अच्छे हैं और भारत में काफी प्रसिद्ध है। आप चाहे तो डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए इनमें से किसी एक विश्वविद्यालय को चुन सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Bharat Ke 29 Rajya Aur Unki Rajdhani

प्रश्न और उत्तर

डिस्टेंस लर्निंग का पिता कौन है?

Distance Learning का पिता आइजक पिटमैन को माना जाता है उन्होंने 1840 में पहली बार पत्राचार के द्वारा छात्रों को शिक्षित करने का काम शुरू किया था तब से लेकर आज तक डिस्टेंस लर्निंग काफी विकसित हुई है।

भारत में डिस्टेंस लर्निंग की आवश्यकता क्यों है?

भारत में डिस्टेंस लर्निंग की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि भारत में सभी जगहों पर शिक्षा उपलब्ध नहीं है और डिस्टेंस लर्निंग भारत के सभी जगहों पर उपलब्ध है।

भारत में डिस्टेंस लर्निंग कब से आरंभ हुआ?

1960 में Distance Learning या दूरस्थ शिक्षा का आरंभ भारत में हुआ था और अभी यह भारत के सभी राज्यों में उपलब्ध है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कब करें?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन बारहवीं कक्षा के बाद करें। डिस्टेंस लर्निंग में ग्रेजुएशन करने के लिए आप किसी भी विषय को चुन सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की फीस क्या है?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की औसत फीस ₹6000 से ₹7000 तक है इसके अलावा यह आपकी ग्रेजुएशन कोर्स पर भी निर्भर करता है कि फीस कितनी होगी।

भारत का सबसे बड़ा डिस्टेंस लर्निंग विश्वविद्यालय कौन सा है?

भारत का सबसे बड़ा डिस्टेंस लर्निंग विश्वविद्यालय IGNOU है जिसे इंदिरा गांधी ओपन नेशनल विश्वविद्यालय कहते हैं।

यह भी पढ़ें: Software Engineer Kya Hota Hai

निष्कर्ष

डिस्टेंस लर्निंग भारत में शिक्षा को एक नए स्तर तक लेकर आया है। भारत एक गरीब देश है और सभी लोगों के लिए शिक्षा प्राप्त करना आसान नहीं है इसलिए डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से छात्र नौकरी करते हुए भी अपनी पढ़ाई को जारी रख सकते हैं। कोरोना वायरस के आने के बाद डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की और सी मच गई है क्योंकि स्कूल बंद रहते हैं और छात्र अपनी पढ़ाई को जारी रखना चाहते हैं।

मुझे आशा है कि आपको Distance Learning क्या होता है और डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें तथा इसके फायदे के ऊपर हमारी यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपको पसंद आई हो तो कृपया इस आर्टिकल को नीचे दिए गए व्हाट्सएप और फेसबुक के बटन को दबाकर अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

शिक्षा से संबंधित इसी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारियों को रोजाना पढ़ने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे कि हर जानकारी आपको तुरंत मिल सके।

3 thoughts on “Distance Learning क्या है? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है