होम » टेक्नोलॉजी » मोबाइल लर्निंग क्या है और इसका उपयोग कैसे करें

मोबाइल लर्निंग क्या है और इसका उपयोग कैसे करें

दोस्तों आज हम जानेंगे मोबाइल लर्निंग क्या है और मोबाइल लर्निंग के फायदे और नुकसान क्या होते हैं तथा हम इसका उपयोग अपने जीवन में कैसे कर सकते हैं। वर्तमान समय में दुनिया काफी डिजिटल हो गई है और ऐसा कोई भी चीज़ नहीं है जिसे आप ऑनलाइन नहीं कर सकते हैं।

mobile learning kya hai

1992 में, पहला स्मार्टफोन जारी किया गया था। इसे साइमन पर्सनल कम्युनिकेटर के नाम से जाना जाता था। इस स्मार्टफोन का उपयोग कॉल करने और फैक्स भेजने के लिए किया जा सकता था लेकिन 2022 में स्मार्टफोन के जरिए लगभग सभी कार्य करने की सुविधा दी गई है।

मोबाइल लर्निंग केवल युवाओं के लिए नहीं है। हम सभी अब मोबाइल उपकरणों द्वारा दी जाने वाली क्षमताओं को गंभीरता से लेते हैं। हम परोक्ष रूप से यह भी उम्मीद करते हैं कि “ऑनलाइन” का अर्थ “मोबाइल” है। इस आर्टिकल के माध्यम से आपको मोबाइल लर्निंग से संबंधित सभी जानकारियां मिलेगी जिससे आप मोबाइल लर्निंग के महत्व को समझ पाएंगे।

मोबाइल लर्निंग क्या है?

मोबाइल लर्निंग वह सीख है जिसे मोबाइल उपकरणों का उपयोग करके कहीं भी और किसी भी समय किया जा सकता है। सामग्री तक पहुँचने के लिए शिक्षार्थी इन उपकरणों का उपयोग करते हैं। मोबाइल लर्निंग को उन्हीं उपकरणों द्वारा सक्षम किया जाता है जिन्हें हम अपनी जेब और बैकपैक में रखते हैं जैसे टैबलेट और स्मार्टफोन। मोबाइल लर्निंग छात्रों को सीधे अपने मोबाइल उपकरणों से पाठों का अध्ययन करने, वीडियो देखने और परीक्षण करने की अनुमति देता है।

यह भी पढ़ें: सबसे अच्छा ऑनलाइन पढ़ाई करने वाला ऐप डाउनलोड

हमारा भविष्य मोबाइल लर्निंग का ही होने वाला है क्योंकि मोबाइल लर्निंग के बहुत सारे फायदे हमें देखने को मिलते हैं। मोबाइल लर्निंग की सबसे अच्छी बात यह है कि यह सभी के लिए उपलब्ध हो सकता है इसमें कोई क्षेत्र बंधन नहीं है।

मोबाइल लर्निंग का महत्व क्या है?

mobile learning kya hai

जानकारी के लिए ऑनलाइन खोज करना छात्रों के बीच एक सामान्य प्रवृत्ति नहीं है। मोबाइल लर्निंग एक पूरी तरह से अलग तरीका है जो छात्रों को किसी भी जानकारी को सीखने में मदद करती है। “मोबाइल लर्निंग” न केवल डिवाइस को संदर्भित करता है, बल्कि शिक्षार्थी को भी संदर्भित करता है।

पिछले एक दशक में, लोग अधिक से अधिक मोबाइल का उपयोग करने लगे हैं। यह एक बहुत बड़ा प्रमाण है कि लोग मोबाइल के जरिए लर्निंग कर रहे हैं और मोबाइल लर्निंग के जरिए उन्हें निश्चित स्थान या विशेष समय पर होने की जरूरत भी नहीं पड़ती है।

यह भी पढ़ें: Distance Learning क्या है? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

मोबाइल लर्निंग शिक्षा के लिए सभी समाधान प्रदान नहीं करता है। यह सैद्धांतिक भौतिकी जैसी जटिल अवधारणाओं और अमूर्त प्रक्रियाओं को पढ़ाने के लिए नहीं है। कॉर्पोरेट और उच्च शिक्षा क्षेत्रों में ज्ञान प्रतिधारण में सुधार के लिए लघु पुनश्चर्या पाठ्यक्रम और इंटरैक्टिव क्विज़ कराया जाता है।

मोबाइल लर्निंग के फायदे

  • किसी भी समय और स्थान पर शिक्षा से संबंधित चीजों को खोजा जा सकता है। आपको बस अपने स्मार्टफोन को अपनी जेब से निकालने की जरूरत है।
  • मोबाइल लर्निंग व्यावहारिक और कार्य-उन्मुख दोनों है। मोबाइल-लर्निंग चरण-दर-चरण ट्यूटोरियल और लघु गाइड के लिए आदर्श है।
  • आप आसानी से अपने लर्निंग को व्यायाम और पाठ्यक्रमों को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।
  • सामाजिक स्पर्श शिक्षार्थियों के लिए अपने प्रशिक्षण या साथियों से संपर्क करना और समर्थन प्राप्त करना आसान होता है। वे टिप्पणियां पोस्ट कर सकते हैं, चर्चा मंचों में भाग ले सकते हैं और एक समूह के रूप में जुड़े रह सकते हैं।
  • मोबाइल लर्निंग सीखने के संसाधन शिक्षार्थियों के लिए एक महान संसाधन हैं। यह प्रशिक्षण को इंटरैक्टिव और बहुत अधिक प्राकृतिक बनाता है।

यह भी पढ़ें: Red Data Book क्या है? रेड डाटा बुक के फायदे एवं नुकसान क्या है?

मोबाइल लर्निंग के नुकसान

  • तकनीकी विसंगतियां विभिन्न उपकरणों में अलग-अलग भंडारण क्षमता और प्रसंस्करण गति हो सकती है। धीमी गति और कम भंडारण से मोबाइल सीखने में बाधा आ सकती है।
  • खराब वायरलेस कनेक्शन अथवा दूरदराज के क्षेत्रों में सेल कवरेज पर्याप्त नहीं हो सकता है जिससे लर्निंग में बाधा आ सकती है।
  • ध्यान भटकाना सोशल मीडिया के माध्यम से स्क्रॉल करने और ईमेल सूचनाओं की जांच करने का प्रलोभन दैनिक कार्यों से विचलित कर सकता है और प्रशिक्षण की प्रभावशीलता को कम कर सकता है। 

यह भी पढ़ें: मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं का जवाब

मोबाइल लर्निंग और ई-लर्निंग में क्या अंतर है?

मोबाइल लर्निंग केवल सामग्री वितरित करने के लिए मोबाइल डिवाइस का उपयोग करने के बारे में नहीं है। ई-लर्निंग कोर्स से मोबाइल लर्निंग संभव है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि ये पाठ्यक्रम “मोबाइल लर्निंग” हैं।

मोबाइल लर्निंग ई लर्निंग
मोबाइल लर्निंग में विशेषकर छोटे आकार के वीडियो के माध्यम से छात्रों को सिखाया जाता है।इन लर्निंग के समय छात्रों के सामने लंबे आकार के वीडियो पेश किए जाते हैं।
मोबाइल लर्निंग केवल मोबाइल ऐप के माध्यम से ही संभव है।ई लर्निंग मोबाइल ऐप के जरिए भी की जा सकती है और इंटरनेट ब्राउज़र के माध्यम से भी की जा सकती है।
मोबाइल लर्निंग के पाठ्यक्रम विभिन्न प्रकार के होते हैं।ई लर्निंग के पाठ्यक्रम पहले से ही निर्धारित होते हैं। 

यह भी पढ़ें: याद करने का सबसे आसान तरीका

मोबाइल लर्निंग ऐप बनाते समय जरूरी बातें

मोबाइल लर्निंग ऐप बनाते समय आपको विभिन्न बातों का ध्यान रखना जरूरी है तभी जाकर आप एक सफल मोबाइल लर्निंग ऐप बना पाएंगे। एक अच्छा मोबाइल लर्निंग ऐप बनाने के लिए निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें।

1. इनपुट विधि

ई-लर्निंग सामग्री को छोटे माउस पॉइंटर के साथ उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जबकि मोबाइल लर्निंग की सामग्री का उपयोग उंगली से किया जा सकता है। सभी क्लिक करने योग्य इंटरफ़ेस तत्व बड़े होने चाहिए ताकि शिक्षार्थियों को किसी बटन या लिंक पर टैप न करना पड़े।

2. ऑन-स्क्रीन सामग्री की मात्रा

एक डेस्कटॉप स्क्रीन का आकार 19 से 34 इंच तक होता है। मोबाइल के स्क्रीन का साइज अधिक नहीं होता है इसलिए आपको अपने मोबाइल लर्निंग ऐप को इस तरह से बनाना है जिससे कि सभी चीजें सही से छात्रों देख पाए।

3. सामग्री का प्रारूपण

मोबाइल लर्निंग के सभी पाठ्यक्रम एचटीएमएल फॉर्मेट में होना चाहिए ताकि छात्रों को शिक्षा संबंधित सामग्री सही से और जल्दी से मिल पाए। एचटीएमएल फॉर्मेट सभी डिवाइस इसके लिए एक अच्छा लुक प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें: ऑनलाइन मोबाइल फोन में पुराना व्हाट्सएप डाउनलोड कैसे करें

प्रश्न और उत्तर

मोबाइल लर्निंग क्या होता है?

मोबाइल लर्निंग सामग्री क्विज़, पाठ्यक्रम और अन्य शैक्षिक वीडियो के लिए ऑनलाइन उपलब्ध है। इसे स्मार्टफोन, टैबलेट और लैपटॉप कंप्यूटर जैसे मोबाइल उपकरणों का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है।

मोबाइल लर्निंग के क्या फायदे हैं?

मोबाइल लर्निंग आपको किसी भी स्थान से और किसी भी समय नए ज्ञान तक पहुंचने की अनुमति देता है। यह विभिन्न पीढ़ियों के शिक्षार्थियों को जोड़ता है और सीखने का एक नया अनुभव प्रदान करता है।

मोबाइल लर्निंग के क्या नुकसान हैं?

मोबाइल लर्निंग अत्यधिक तकनीक पर निर्भर है। इसके लिए मजबूत प्रोसेसर, अच्छी कवरेज और भरपूर स्टोरेज की जरूरत होती है। मोबाइल फोन भी ध्यान भंग कर सकते हैं, इसलिए यह विकर्षण पैदा कर सकता है जो सीखने की प्रक्रिया को बाधित कर सकता है।

कॉर्पोरेट शिक्षा में मोबाइल लर्निंग का उदाहरण क्या है?

ये कुछ कंपनियां हैं जिन्होंने मोबाइल लर्निंग को अपनाया है। वे ग्राहकों, भागीदारों और कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने और ज्ञान फैलाने के लिए मोबाइल लर्निंग ऐप्स और तकनीकों का उपयोग करते हैं।

-जॉनसन एंड जॉनसन
-हनीवेल
-ओटिकॉन
-एफवाईएमसीए

यह भी पढ़ें: यह भी पढ़ें: English Ko Hindi Me Translate Karne Wala Apps Download

निष्कर्ष

किसी भी प्रकार का लर्निंग ज्ञान अर्जन करने का एक साधन है। आप जिस भी प्लेटफार्म पर चाहे वहां से आप जानकारियां हासिल कर सकते हैं और नई नई चीजों को सीख सकते हैं। शिक्षा किसी ई लर्निंग या मोबाइल लर्निंग का जागीर नहीं है।

हमें आशा है कि आप को मोबाइल लर्निंग क्या है और मोबाइल लर्निंग के फायदे और नुकसान क्या होते हैं तथा इसके महत्व के ऊपर यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

मोबाइल लर्निंग के ऊपर यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए फेसबुक और व्हाट्सएप के बटन को दबाकर अभी शेयर करें ताकि सभी मोबाइल लर्निंग के महत्व को जान पाए।

मोबाइल लर्निंग क्या है से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

टेक्नोलॉजी से संबंधित इसी प्रकार की रोचक जानकारियां रोजाना अपने मोबाइल फोन पर प्राप्त करने के लिए आप हमारे वेबसाइट के नोटिफिकेशन को सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे हर नई जानकारी का नोटिफिकेशन आपको मिल जाएगा।

2 thoughts on “मोबाइल लर्निंग क्या है और इसका उपयोग कैसे करें”

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है