होम » जानकारी » बेयरिंग क्या है और बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं?

बेयरिंग क्या है और बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं?

दोस्तों आज हम जानेंगे बेयरिंग क्या है और बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं । मानव जीवन के विकास में बेयरिंग का एक बड़ा योगदान रहा है क्योंकि इसके बिना किसी भी प्रकार के यांत्रिक कार्य संभव नहीं है। बेयरिंग की बनावट विशेष प्रकार से की जाती है।

बेयरिंग का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर ऑटोमोबाइल कंपनी तथा इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी के द्वारा की जाती है। हमारे घर में ही ऐसे कई सारी वस्तु मौजूद होते हैं जिसमें बेयरिंग का प्रयोग किया वह होता है लेकिन सभी वस्तुओं में अलग-अलग बेयरिंग के प्रकार होते हैं जो अलग-अलग सिद्धांतों पर कार्य करते हैं।

बेयरिंग क्या है?

bearing kya hai

बेयरिंग एक प्रकार का यांत्रिक उपकरण है जो न्यूनतम घर्षण के साथ दो घूर्णन भागों के बीच सापेक्ष गति की अनुमति देता है। बेयरिंग का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के मशीनों में किया जाता है मशीन का कोई भी भाग जो वृत्ताकार में घूमता हो उसमें बेयरिंग का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी होता है। बिना बेयरिंग के किसी भी चीज को वृत्ताकार मैं घुमाना असंभव है।

बड़ी-बड़ी उद्योग में जहां पर काफी सारी मशीनें बनाई जाती है वहां बेयरिंग को मक्खन के नाम से भी जाना जाता है। बेयरिंग का प्रयोग लगभग सभी मशीन में देखने को मिलता है जैसे कि पंख, मोटरसाइकिल, एयरप्लेन, रेफ्रिजरेटर इत्यादि।

यह भी पढ़ें: करंट ट्रांसफार्मर के प्रकार और उपयोग क्या होता है?

बेयरिंग का बनावट कैसा होता है?

बेयरिंग का बनावट मुख्यतः चार चीजों पर निर्भर करता है। 

  1. आंतरिक रिंग
  2. बाहरी रिंग
  3. रोलिंग तत्व
  4. केज 

इन चारों चीजों को मिलाकर बेयरिंग बनाया जाता है। आकार के आधार पर यह छोटी और बड़ी हो सकती है या उसके कार्य पर निर्भर करता है।

यह भी पढ़ें: Welding Kya Hai Aur Kitne Prakar Ki Hoti Hai

बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं?

बेयरिंग को विभिन्न उद्देश्य के लिए अलग-अलग संरचना से बनाया जाता है और उसी के आधार पर बेयरिंग को विभिन्न प्रकारों में विभाजित किया जाता है। बेयरिंग के अलग-अलग भागों को आसानी से और घर्षण के बिना स्थानांतरित करने में सक्षम बनाने के लिए बॉल का इस्तेमाल होता है।

bearing kitne prakar ke hote hain

बाजार में आपको अनगिनत बेयरिंग के प्रकार देखने को मिल जाएंगे जिनमे से कुछ के वर्णन निचे दी गयी है जो लगभग हर कार्य के लिए उपयुक्त होती है।

1. बॉल बेयरिंग

बॉल बेयरिंग बनाने के लिए सिरेमिक या स्टील बॉल्स को आंतरिक और बाहरी रिंगों के मध्य लगाया जाता है। ये घूर्णन शाफ्ट का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किए गया है। बॉल बेयरिंग स्थिर और चलती भागों के बीच घर्षण को कम करते हैं।

गोले अक्सर स्टील की गेंदें लेकिन कभी-कभी सिरेमिक नहीं हो सकती है जो उच्च तापमान को प्रदर्शित करती है। स्टील बॉल को एक आंतरिक रिंग और एक बाहरी रिंग के बीच लगाया जाता है।

मोटे तौर पर दो बॉल बेयरिंग प्रकार होते हैं:

  1. गहरी नाली बॉल बेयरिंग जिसमें उच्च रेडियल भार सहने की क्षमता होती है, 
  2. कोणीय संपर्क बॉल बेयरिंग जो उच्च रेडियल और अक्षीय भार दोनों का कार्य कर सकती है। 

2. रोलर बियरिंग्स

रोलर बेयरिंग बॉल बेयरिंग की तुलना में अधिक भार उठा सकते हैं। रोलर बेयरिंग मैं बेलनाकार पतले घूर्णन होते हैं जिससे आंतरिक और बाहरी रिंग के बीच फिट किया जाता है। इस बेयरिंग की भूमिका चलती शाफ्ट और स्थिर घटकों के बीच घर्षण को कम करना होता है।

बेलनाकार रोलर बीयरिंग आम तौर पर स्टेनलेस स्टील से बने होते हैं जो भारी रेडियल भार के लिए अभिप्रेत हैं। इस प्रकार के बेयरिंग उच्च गति अनुप्रयोगों के लिए आदर्श माने जाते हैं, क्योंकि उनका कम घर्षण वाला डिज़ाइन अधिक गर्मी या शोर उत्पन्न नहीं करता है।

यह भी पढ़ें: Compass क्या है? कम्पास का पूरा नाम और प्रिजमेटिक कंपास का उपयोग

आपको मोटर वाहन, खनन और निर्माण सहित उद्योगों के क्षेत्र में गियरबॉक्स, इलेक्ट्रिक मोटर और पंप में बेलनाकार रोलर बीयरिंग मिलेंगे।

3. सुई बीयरिंग

सुई रोलर बीयरिंग आकार में छोटे हो सकते हैं, लेकिन वे मजबूत होते हैं। वे अपने पतले, सुई जैसी उपस्थिति के कारण से अपना नाम प्राप्त करते हैं। सुई बेयरिंग का उपयोग छोटे अनुप्रयोगों के भीतर घर्षण को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है।

यदि आपको वजन कम रखने या सीमित निकासी क्षेत्र की आवश्यकता है तो यह सुई बेयरिंग आपके लिए एक आसान विकल्प है। वे घरेलू उपकरणों सहित सभी प्रकार के अनुप्रयोगों में पाए जाते हैं जहां इनका उपयोग किया जाता है।

रेडियल बलों का उपयोग करके बॉल या रोलर बेयरिंग को सुरक्षित और माउंट करने के लिए टॉलरेंस रिंग्स का उपयोग निश्चित तौर पर किया जाता है। रिंग की परिधि में नालीदार “लहरें” बॉल बेयरिंग को आवास के भीतर बनाए रखने में मदद करती है और स्प्रिंग्स के रूप में कार्य करती हैं। जितना अधिक आप रिंग को संपीड़ित करते हैं, उतना ही अधिक बल यह बेयरिंग बनाता है, जो भार वहन क्षमता भी निर्धारित करता है।

4. रॉड एंड बियरिंग्स

यह बेयरिंग कॉम्पैक्ट, हल्के और फिट करने में आसान हैं, और वे भारी वैकल्पिक भार के लिए एक विश्वसनीय विकल्प होते हैं। मूल डिजाइन एक गोल सिर है जिसमें एक अभिन्न टांग होता है, जिसमें गोलाकार सादे बीयरिंग मौजूद होते हैं।

रॉड एंड्स एक प्रकार का माउंटेड बेयरिंग है, बियरिंग्स का एक समूह जो बोल्ट- बेरिंग एक्समऑन घटकों के अंदर रखा जाता है, जिसमें पिलो बॉक्स भी आता है। वे अधिकतर उजागर घूर्णन शाफ्ट वाली मशीनों में उपयोग किए जाते हैं।

यह भी पढ़ें: Duniya Ki Sabse Mahangi Cycle

रॉड एंड में रखे गोलाकार असर को स्टिक-स्लिप को कम करने और घर्षण को सामान्य रूप से बनाए रखने के लिए संपर्क के निरंतर क्षेत्र की आवश्यकता होती है।

5. स्लीव बियरिंग्स

स्लीव बियरिंग्स को बुशिंग्स, जर्नल बियरिंग्स या प्लेन बियरिंग्स भी कहा जाता है और ये बेयरिंग दूसरे बियरिंग्स की तुलना में सबसे साधारण डिजाइन है।

इसका इस्तेमाल आमतौर पर उन अनुप्रयोगों में पाए जाते हैं जो घूर्णन या स्लाइडिंग भागों का उपयोग करते हैं। वे कई प्रकार की सामग्रियों से बने होते हैं, जिनमें प्लास्टिक सबसे कम लागत वाला विकल्प होते हैं इसके अलावा आप इसे स्टील से ही बना सकते हैं।

ऑल-मेटल बियरिंग्स में घर्षण का गुणांक कम होता है, लेकिन उच्च गति पर खड़खड़ाहट जैसी आवाज पैदा कर सकता है। स्टील स्लीव बियरिंग्स को लुब्रिकेट किया जा सकता है जिससे कि उसका फ्रिक्शन कम हो।

एक अच्छे बेयरिंग की क्या पहचान होती है?

  • कम घर्षण 
  • उच्च एम्बेडेबिलिटी
  • कम तापीय विस्तार
  • अच्छी अनुरूपता
  • उच्च संपीड़न शक्ति
  • उच्च संक्षारण प्रतिरोध
  • उच्च थकान शक्ति
  • उच्च तापीय चालकता
  • उच्च इलास्टिसिटी

यह सभी गुण आपको किसी एक बेयरिंग में मिलना मुश्किल है क्योंकि 1 गुण दूसरे गुण के विपरीत कार्य करता है।

यह भी पढ़ें: मेस हेल्पर क्या है? मेस हेल्पर के कार्य और सैलरी क्या होती है?

बेयरिंग के कार्य कितने प्रकार के होते हैं?

बेयरिंग के बहुत सारे कार्य होते हैं लेकिन यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप कौन सा कार्य कर रहे हैं और आपको किस प्रकार के बेयरिंग की आवश्यकता है आइए जानते हैं।

किसी भी कार्य को करने के लिए यदि आपको बेयरिंग की जरूरत पड़ती है तो यहां हम आपको कुछ सुझाव दे रहे हैं जिसके आधार पर आप किसी निश्चित कार्य के लिए बेयरिंग के किसी भी प्रकार को चुन सकते हैं।

  1. कम और मध्यम भार के लिए बॉल बेयरिंग का चयन करें।
  2. भारी भार के कार्य के लिए रोलर बेयरिंग का चयन करें।
  3. शाफ्ट के बीच मिसलिग्न्मेंट के मामले में सेल्फ-अलाइनिंग बॉल बेयरिंग या रोलर बेयरिंग का उपयोग करें।
  4. जहां हमारे पास लोड के अक्षीय और रेडियल दोनों घटक हैं वहां नाली बॉल बेयरिंग, कोणीय संपर्क का उपयोग करते हैं।
  5. उच्च गति अनुप्रयोगों के लिए गहरी नाली बॉल बेयरिंग, कोणीय संपर्क बीयरिंग और बेलनाकार रोलर बीयरिंग अधिक उपयोगी है।
  6. जब सिस्टम की कठोरता हमारी मुख्य आवश्यकता है तो बेलनाकार रोलर बेयरिंग या टेपर रोलर बेयरिंग  का इस्तेमाल करें। 
  7. जब शोर में कमी हमारा मुख्य मानदंड है तो हम गहरी नाली बॉल बेयरिंग का उपयोग करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: बैंक में खाता कैसे खोलते हैं और बैंक खाते के प्रकार कितने होते हैं

प्रश्न और उत्तर

बेयरिंग का आविष्कार किसने किया?

बेयरिंग का आविष्कार Philip Vaughan ने 1794 ईस्वी में किया था जो कि एक ब्रिटिश नागरिक थे उन्होंने ही सर्वप्रथम बेयरिंग का आविष्कार किया था।

बेयरिंग का उपयोग सबसे अधिक किस कार्य के लिए होता है?

बेयरिंग का उपयोग सबसे अधिक यातायात से संबंधित मोटर गाड़ियों में होता है जहां सबसे अधिक बेयरिंग का इस्तेमाल किया जाता है।

बेयरिंग की आवश्यकता क्यों पड़ी?

बेयरिंग की आवश्यकता हमें हर उस कार्य के लिए पड़ती है जहां हमें किसी वस्तु को वृत्ताकार रूप से घुमाना होता है वह भी एक चीज को स्थिर करते हुए।

यह भी पढ़ें: ISO Certification आईएसओ प्रमाण पत्र

निष्कर्ष

वर्तमान में ऐसी कोई भी मशीनरी वस्तु नहीं है जिसमें आपको बेयरिंग का उपयोग देखने को ना मिले हर एक चीज में अभी बेयरिंग का इस्तेमाल होता है चाहे वह घड़ी हो या फिर बड़ा कार। मानव जीवन के विकास में बेयरिंग का एक बहुत बड़ा योगदान है।

हम आशा करते हैं आप को बेयरिंग क्या है और बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं से संबंधित यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

बेयरिंग के प्रकार से संबंधित यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ नीचे दिए गए फेसबुक और व्हाट्सएप के बटन के माध्यम से शेयर करें।

बेयरिंग के कितने प्रकार होते हैं से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं हम उसका उत्तर आपको अवश्य देंगे।

टेक्नोलॉजी से संबंधित इसी प्रकार की जानकारियों को रोजाना अपने फोन पर प्राप्त करने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

4 thoughts on “बेयरिंग क्या है और बेयरिंग कितने प्रकार के होते हैं?”

  1. पवन ऊर्जा में कौन सी बेयरिंग होती है जिस से उसकी स्पीड 90 गुना बढ़ जाती है

    • सिलिंड्रिकल रोलर बियरिंग्स

Leave a Comment

error: जानकारी सुरक्षित है